दिल्ली के जंतर मंतर पर तमिलनाडु के किसानो से सीएम पलानिस्वामी मिले| पालानीस्वामी ने रविवार को किसानों से उनके विरोध को ख़त्म करने की अपील की| जो पिछले 39 दिनों से चल रहा है| उन्होंने यह आश्वासन दिया कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे और उन्हें मौजूदा स्थिति से अवगत कराएँगे|

पत्रकारों से बात करते हुए सीएम एडापैडी के पलानीस्वामी ने कहा, मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने किसानों द्वारा रखी गई मांगों को लेकर जाऊंगा। उन्होंने कहा मेने किसानो को इस विरोध को खत्म करने के लिए आग्रह किया है।

तमिलनाडु के किसानो की मांग

दूसरी तरफ किसानों में से एक जो अय्याकनू ने किसानों के लिए तत्काल ऋण छूट की मांग की। हमें किसानों के लिए तत्काल ऋण छूट चाहिए। हाल ही में, उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों के ऋण को माफ कर दिया। हम यह भी चाहते हैं। उन्होंने कहा कि किसान ऋण माफी के लिए अपने माह-पुराने विरोध को जारी रखेंगे, जब तक कि पलानीस्वामी मोदी के साथ मुलाकात सुनिश्चित नहीं करते। विरोध करने वाले किसान केंद्र सरकार द्वारा 40,000 करोड़ रुपये के सूखे राहत पैकेज, कृषि ऋण छूट और कावेरी प्रबंधन बोर्ड की स्थापना की मांग कर रहे हैं।

तमिलनाडु के किसानों का प्रदर्शन

1 महीने में तमिलनाडु के किसानों ने क्या-क्या किया है

पिछले 39 दिनों में तमिलनाडु के किसानों ने मीडिया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ध्यान आकर्षित करने के लिए विभिन्न कार्यों का सहारा लिया है। उन्होंने अपने सिर को मुंडवाया, अपने मुंह में चूहों और सांप लगाए, नकली अंत्येष्टि किए, खुद को फटकारा और कर्ज के दबाव के कारण आत्महत्या करने वाले अन्य किसानों की खोपड़ी भी ली। 10 अप्रैल को, उन्होंने अपनी मांगों को दबा देने के लिए प्रधानमंत्री के कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया था। विरोध करने वाले किसानों ने शनिवार को अपनी दुर्दशा पर सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए एक और निराशाजनक कार्य किया| इस कार्य में किसानो ने अपना मूत्र पिया|

जानिए क्यों अपना ही मल मूत्र खाने को मजबूर हैं ये किसान

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Pankaj Sharma
देश की राजनीति से जुडी ख़बरों पर कड़ी नजर रखते हैं. फिल्में देखने का है शौक. नयी जगहों पर घूमना अत्याधिक पसंद