कांग्रेस ने खुद को सेना प्रमुख पर संदीप दीक्षित की टिप्पणी से अलग किया

Advertisement

नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत पर कांग्रेस के नेता संदीप दीक्षित की विवादास्पद टिप्पणी के बाद सोमवार को पार्टी ने उनकी टिप्पणी से खुद को अलग कर दिया है| पार्टी प्रवक्ता का कहना है कि “पार्टी ऐसी भाषा का समर्थन नहीं करती है”| यह संदीप दीक्षित के निजी विचार हो सकते है| पार्टी का इससे कुछ लेना-देना नहीं है|

कांग्रेस ने खुद को सेना प्रमुख पर संदीप दीक्षित की टिप्पणी से अलग किया

मुझे नहीं पता कि उन्होंने ऐसी भाषा क्यों इस्तेमाल की थी? हमने उनके साथ इस मुद्दे पर चर्चा की है| लेकिन पार्टी इसका समर्थन नहीं करती है – कांग्रेस नेता मीम अफजल ने मीडिया को बताया। अफजल ने आगे कहा कि कांग्रेस को किसी अन्य व्यक्ति के लिए बेतुकी भाषा का इस्तेमाल न करने के निर्देश दिए गए हैं| साथ ही उन्होंने कहा यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि दीक्षित ने ऐसी भाषा का इस्तेमाल किया।

Advertisement

संदीप दीक्षित ने विपिन रावत से मांगी माफ़ी

इस बीच दीक्षित ने रविवार को अपना विवादास्पद बयान जनरल रावत पर वापस ले लिया और इसके लिए माफी मांगी। उन्होंने कहा मैं वास्तव में विश्वास करता हूं कि मैंने जो कहा वह गलत था। इसलिए मैंने इसके लिए माफी मांग ली और अपना वक्तव्य वापस ले लिया। दीक्षित ने सोमवार को एक विवाद उठाया| जब उन्होंने कहा कि जनरल रावत को एक सड़क का गुंडा (एक सड़क वाला गुंड) की तरह बयान नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा ऐसा लगता है कि हमारा सेना प्रमुख सड़क के किनारे ठग की तरह बोलता है। जबकि पाकिस्तान से उम्मीद की जा रही है कि वह माफिया जैसा है| तो हमारे खुद के प्रधान ने ऐसा क्यों कहा है?

Advertisement

समाचार एजेंसी एएनआई के साथ एक बातचीत में जनरल रावत ने पहले कहा था कि भारतीय सेना देश के बाहरी और साथ ही आंतरिक खतरों का सामना करने के लिए तैयार है। भारतीय सेना पूरी तरह से दो और आधी युद्ध के लिए तैयार है – रावत कहा था।

Advertisement