दैत्य में कौन सा प्रत्यय है? daitya mein Pratyay aur mool shabd

दैत्य शब्द में प्रत्यय और मूल शब्द

दैत्य शब्द में प्रत्यय बताइये।

दिति + य = दैत्य
अतः ‘दैत्य’ में ‘य’ प्रत्यय और ‘दिति’ मूल शब्द है।

daitya shabd mein kaun sa pratyay aur mool shabd hai?

daitya mein Pratyay hai – य aur mool shabd hai – दिति

दैत्य का वाक्य प्रयोग

दुर्गम दैत्य का संहार करने के कारण माता का नाम दुर्गा पड़ा।
दैत्यों ने ऋषियों का जीना मुश्किल कर दिया था।

यहाँ पर मूल शब्द ‘दिति’ एक व्यक्तिवाचक संज्ञा है जिसमें तद्धित प्रत्यय (संस्कृत) ‘य’ जुडने से बना शब्द ‘दैत्य’ तद्धितान्त व्यक्तिवाचक संज्ञा) शब्द कहा जाएगा।

प्रत्यय वे शब्द होते हैं दूसरे शब्द के अंत में जुड़ कर उस शब्द के अर्थ में अपने अनुरूप परिवर्तन उत्पन्न कर देते हैं और अर्थ भी बदल देते हैं।

प्रत्यय के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए विद्यार्थी इस लेख को पढ़ें:

प्रत्यय की परिभाषा, भेद और उदाहरण

दैत्य शब्द में प्रत्यय को लेकर विभिन्न परीक्षाओं में अनेक प्रकार के प्रश्न पूछे जा सकते हैं जैसे – दैत्य शब्द में कौन सा प्रत्यय है? दैत्य में प्रत्यय और मूल शब्द लिखिए दैत्य में मूल शब्द क्या है? दैत्य शब्द में प्रयुक्त मूल शब्द लिखिए daitya mein kaun sa pratyay hai?, उपसर्ग और प्रत्यय में अंतर बताइये आदि
Pratyay in Hindi for class 5 CBSE

Pratyay in Hindi for class 6 CBSE
Pratyay in Hindi for class 7 CBSE
Pratyay in Hindi for class 8 CBSE
Pratyay in Hindi for class 9 CBSE
Pratyay in Hindi for class 10 CBSE

यह भी पढ़ें –

उपसर्ग की परिभाषा, भेद उदाहरण

परीक्षाओं में अक्सर पूछे जाने वाले 10 IMPORTANT प्रत्यय के शब्द

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *