दिल्ली के आईएसबीटी मॉडल को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह नगर गोरखपुर में दोहराया जाएगा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह नगर गोरखपुर में दिल्ली का आईएसबीटी मॉडल जल्द ही दोहराया जा सकता है। दिल्ली परिवहन विभाग के सूत्रों ने बताया कि उत्तर प्रदेश परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह जल्द ही इस मॉडल का अध्ययन करने के लिए यहां अंतरराज्यीय बस टर्मिनस महाराणा प्रताप आईएसबीटी का दौरा करेंगे।

गोरखपुर में बनेगा मल्टी-सुविधा बस टर्मिनल

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार गोरखपुर जिले में एक मल्टी-सुविधा आईएसबीटी बनाना चाहती है| जहां से आदित्यनाथ पांच बार लोकसभा के सदस्य रहे हैं। विशेष आयुक्त (परिवहन) के के दाहिया ने इस कदम की पुष्टि की| लेकिन अधिक जानकारी देने से इनकार कर दिया। उन्होंने बताया अभी इस बारे में हम कोई औपचारिक जानकारी नहीं दे सकते| बस अभी आपको यही बता सकते है कि बहुत जल्द गोरखपुर के लोगो को एक अच्छी बस सेवा मिलने वाली है|

गोरखपुर में बनेगा मल्टी-सुविधा बस टर्मिनल

महाराणा प्रताप आईएसबीटी को हाल ही में पुनर्निर्मित किया गया था। दिल्ली परिवहन विभाग के अनुसार अंतरराज्यीय बस टर्मिनस में एक हवाई अड्डे के बराबर सुविधाएं मुहैया कराइ जाती हैं| आईएसबीटी से बसों को राजस्थान, पंजाब, उत्तर प्रदेश, जम्मू और कश्मीर और हरियाणा की तरफ भेजा जाता है।

इसमें एक वातानुकूलित प्रतीक्षा भवन, एक फूड कोर्ट, गिलास लिफ्ट, महिला यात्रियों के लिए अलग एसी भवन, आगंतुकों के लिए होटल, पड़ोसी मेट्रो स्टेशन के साथ सामंजस्य और एक समर्पित शहर बस नेटवर्क (डीटीसी डिपो) है। इसके अलावा, आईएसबीटी के पास दिल्ली से बाहर जाने वाली वातानुकूलित बसों की पार्किंग के लिए एक अलग सेक्शन है। योजना के अनुसार, दिल्ली सरकार बसों के प्रस्थान के समय को सूचित करने के लिए जीपीएस-सक्षम मशीन स्थापित करेगी।