Samvad Lekhan दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण स्तर पर दो मित्रों के बीच संवाद – संवाद लेखन

Delhi mein badhate pradushan star par do mitron ke bich samvad –samvad lekhan

राजू – कैसे हो संजय?

संजय – बस! ठीक हूँ|दो दिन से, घर पर हूँ|

राजू – तुम ही क्या मित्र!सभी दिल्ली वासी,दो दिन से घर पर हैं| सरकार नेप्रदूषण के बढ़ते स्तर को देखकर दो दिन का अवकाश घोषित किया है|

संजय – देख नहीं रहे! प्रदूषण के कारण सांस लेना मुश्किल है| सूरज भी नहीं दिखाई दे रहा है| लगता है प्रकृति संकट में है|

राजू – यह हमारे गलत कार्यों का परिणाम है| कल कारखानों से निकलने वाला केमिकल युक्त पानी तथा अपने घरों का कूड़ा कचरा सड़कों पर डालते हैं और नदियों में डालते हैं| जिससे जल प्रदूषण के साथ – साथ मृदा प्रदूषण और वायु प्रदूषण भी होता है|

संजय – विकास के नाम पर प्रत्येक व्यक्ति के पास निजी वाहन है जिस कारण ध्वनि प्रदूषण और वायु प्रदूषण बढ़ रहा है|मित्र! हम प्रकृति के संतुलन को कैसे बनाएं रख सकते हैं?

राजू – प्रकृति सुरक्षित तभी रह सकती है जब हम प्रदूषण के स्तर को कम करेंगे| पृथ्वी पर पेड़ पौधे लगाएंगे और पृथ्वी की सुरक्षा के लिए प्रयास करेंगे|

[display-posts category_id=”2952″  wrapper=”div”
wrapper_class=”my-grid-layout”  posts_per_page=”10″]

यह संवाद लेखन विद्यार्थियों के लिए निम्न विषयों पर उपयोगी होगा – Samvad Lekhan, samvad lekhan meaning, samvad lekhan in hindi for class 8, samvad lekhan meaning in english, samvad lekhan in hindi for class 7, samvad lekhan format class 9, samvad lekhan marathi, shunya kachra samvad lekhan, 5 samvad lekhan, samvad lekhan in hindi for class 6, samvad lekhan in hindi for class 5, samvad lekhan in hindi for class 10

निम्न विषयों पर भी संवाद लेखन का अभ्यास करें:

परीक्षा के एक दिन पूर्व दो मित्रों की बातचीत का संवाद लेखन कीजिए।
संवाद लेखन के समय ध्यान देने योग्य दो बातें लिखिए।

दो मित्रों के बीच पर्यावरण पर संवाद
बढ़ते प्लास्टिक प्रदूषण की रोकथाम हेतु माँ तथा पुत्र में संवाद लिखिए
संवाद प्रदूषण पर शिक्षक और छात्र के बीच हिंदी में लेखन
पर्यावरण पर संवाद लेखन
संवाद लेखन दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण पर दो मित्रों में संवाद लिखें
संवाद लेखन दो मित्रों के बीच
प्रदूषण की समस्या पर संवाद
दो मित्रों के बीच परीक्षा पर संवाद