7 ऐसे देश जहां पूरे जोर शोर से मनाई जाती है दिवाली, देखें तस्वीरें

दीपों का त्यौहार दिवाली सिर्फ भारत वर्ष में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में मनाया जाने लगा है. दुनिया के कोने कोने से आरही तस्वीरों ने इस पर्व को और भी महत्वपूर्ण बना दिया है.

girl diwali

क्या आप जानते हैं कि दीपावली को दुनिया के कई देशों में अलग अलग नाम से मनाया जाता है. आइये देखते हैं अलग अलग देशों की तस्वीरें जहां दिवाली हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है.

इंडोनेशिया

indonesia diwali

इंडोनेशिया के बाली नामक द्वीप में भारतीयों की तादाद काफी अधिक है. वहाँ दिवाली पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है. लोग घरों को दीयों तथा लाइट्स से सजाते हैं. दिये जलाने की भी परंपरा है. हालाँकि पटाखे भी कमोबेश चलाये ही जाते हैं.

मलेशिया

diwali in malaysia

मलेशिया में दिवाली के दिन सार्वजानिक अवकाश होता है. इस दिन को लोग हरी दिवाली के नाम से मनाते हैं.

फिजी

फिजी में भी दिवाली का बहुत क्रेज है. लोग इस दिन मिठाईया बांटते हैं तथा घरों को दीयों से सजाते हैं. स्कूलों तथा यूनिवर्सिटी में भिन्न भिन्न तरह के आयोजन भी किये जाते हैं.

नेपाल

नेपाल में दिवाली को तिहार नाम से मनाया जाता है. काफी दिनों तक एक मात्र हिन्दू राष्ट्र रहे इस देश में दिवाली का आयोजन बड़े स्तर पर होता है. लक्ष्मी पूरा के अलावा इस दिन गायों तथा कुत्तों की पूजा भी की जाती है.

श्रीलंका

diwali

श्रीलंका में दिवाली को दीपावली के नाम से मनाया जाता है. चूंकि भगवान् राम ने लंका में रावण का वध किया था अतः दिवाली श्रीलंका में बड़े जोश के साथ मनाई जाती है. यहां लगातार 5 दिनों तक लोग दिवाली मनाते हैं.

ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया में तो 1 लाख से अधिक भारतीय रहते हैं और वहां दिवाली बड़े अलग तरीके से मनाई जाती है. पार्टी तथा दिवाली कार्निवाल का आयोजन किया जाता है. लोग पार्टीज में शामिल होते हैं. अलग अलग कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है.

थाईलैंड

थाईलैंड में दिवाली को दीयों तथा रौशनी का त्यौहार माना जाता है. इसे वहां लाम करियोंग के नाम से मनाया जाता है. पटाखों या शोर करने वाले किसी भी चीज़ का प्रयोग नहीं किया जाता है बल्कि दिवाली को रौशनी के पर्व के रुप में मनाया जाता है.

इन सभी देशों के अलावा भूटान, दुबई, जापान, कनाडा सहित अमेरिका में भी दिवाली बड़े धूमधाम से मनाया जाता है. चूंकि भारत के निवासी दुनिया के हर कोने में बसे हुए हैं इसलिए इस पर्व को कमोबेश हर देश में मनाया ही जाता है.