एक गलत इच्छा – शिक्षाप्रद कहानियाँ, Kamchor gadha – Shikshaprad kahani

Advertisement

Ek galat ichcha – Shikshaprad Kahani

एक बार एक मधुमक्खी ने एक बरतन में शहद इकटृा किया और ईश्वर को प्रसन्न करने के लिए उनके समक्ष प्रस्तुत किया। ईश्वर उस भेंट से बहुत प्रसन्न हुए और मधुमक्खी से बोले कि वह जो चाहे इच्छा करे, उसे पूरा किया जाएगा।

एक गलत इच्छा - शिक्षाप्रद कहानियाँ, Kamchor gadha - Shikshaprad kahani

मधुमक्खी यह सुनकर बहुत प्रसन्न हुई और बोली- ”हे सर्वशक्तिमान ईश्वर, यदि आप सचमुच मुझसे प्रसन्न हैं तो मुझे यह वरदान दें कि मैं जिसे भी डंक मारूं, वह दर्द से तड़प उठे।“

Advertisement

ईश्वर यह सुनकर बहुत क्रोधित हुए- ”क्या इसके अतिरिक्त तुम्हारी अन्य कोई इच्छा नहीं है। ठीक है, मैंने वादा किया है कि तुम्हारी इच्छा पूरी करूंगा, परंतु एक शर्त है। वह यह कि तुम जिसे डंक मारोगी उसे तो बहुत दर्द होगा, परंतु तुम भी तुरंत मर जाओगी।“

दूसरे ही क्षण ईश्वर वहां से चले गए।

निष्कर्ष- जो दूसरों का बुरा चाहते हैं, उनका भी बुरा ही होता है।

Advertisement