मुशर्रफ ने माना कि पाकिस्तान से दी जा रही है आतंकियों को ट्रेनिंग, बताया हाफ़िज़ सईद को पाकिस्तानी हीरो

इस्लामाबाद: पाकिस्तान: आज फिर पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति और सेनाध्यक्ष जनरल परवेज मुशर्रफ ने एक विवादस्पद बयान देकर भारत-पाक संबंधों में भूचाल खड़ा कर दिया. जनरल परवेज मुशर्रफ आज एक इंटरव्यू में साफ साफ कहा कि भारत में आतंकी हमलों को अंजाम देने वाली आतंकवादियों को ट्रेनिंग पाकिस्तान में ही दी जा रही है और आईएसआई, लश्कर व जैश-इ-मुहम्मद इन आतंकियों को ट्रेनिंग दे रहे हैं।

General Musharraf says Hafiz sayeed is a Pakistan Heroजनरल परवेज मुशर्रफ ने यह तो माना कि मसूद अजहर एक खतरनाक आतंकवादी है पर जमात प्रमुख हाफिज सईद को उन्होंने आतंकवादी मानने से साफ इंकार कर दिया. बल्कि उन्होंने यहाँ तक कह डाला कि हाफिज सईद पाकिस्तान का हीरो है और पाकिस्तान को उस पर फख्र है।

जनरल परवेज मुशर्रफ ने डेविड कोलमैन हेडली के बयानों को विश्वास लायक नहीं बताते हुए कहा कि हेडली की गवाही को इग्नोर कर दिया जाना चाहिए क्यूंकि यह गवाही अमेरिकी दबाव में दी गई है।

जनरल परवेज मुशर्रफ की तबीयत इस इंटरव्यू के बाद अचानक बिगड़ गई और वे अपने घर पर ही बेहोश हो गए। सूत्रों ने बताया है कि जनरल परवेज मुशर्रफ  की हालत गंभीर है और उन्हें कराची के पी.एन.एस.शिफा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जनरल परवेज मुशर्रफ के उम्र बहत्तर (72) साल है और उन्हें पहले हेल्थ प्रोब्लेम्स होती रही हैं। दो साल पहले उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था।

लेकिन जनरल परवेज मुशर्रफ की पार्टी ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एपीएमएल) की प्रवक्ता आसिया इसहाक ने एक बयान जारी कर कहा कि जनरल परवेज मुशर्रफ की हालत ज्यादा खराब नहीं है और सिर्फ उनका ब्लड प्रेशर बढ़ गया था।

जनरल परवेज मुशर्रफ को पिछले महीने आतंकवाद निरोधक कोर्ट ने 2006 में हुई बलूच नेता नवाब अकबर खान बुगती की हत्या के मामले में बरी कर दिया था। किन्तु उनके ऊपर 2007 में पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या करवाने के साथ साथ कई और मामले अभी  भी चल रहे हैं। पाकिस्तान की एक अदालत ने उनके विदेशी दौरों और राजनीति में सक्रिय भागीदारी पर रोक लगा रखी है।

यह भी पढ़िए – हाफिज सईद ने खुले-आम मनाया कश्मीर दिवस, खुली पाकिस्तान के दावों की पोल

इस सब के बावजूद जनरल परवेज मुशर्रफ  का पाकिस्तान की राजनीति और फ़ौज़ में अभी भी अच्छा खासा रसूख है और वे गाहे-बगाहे अपने बयानों से हलचल खड़ी करते रहते हैं.