घर में क्यों और किस दिशा में लगाना चाहिए भगवान की तस्वीर?

Ghar mein Bhagvan ki tasveer kahan lagani chahiye?

वास्तु के अनुसार हमारा पूरा घर वास्तु के अनुरूप होना चाहिए। अगर घर वास्तु के अनुरूप नहीं होता है तो घर वालों को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। वास्तु के अनुसार घर में ईशान कोण को पूजन करने के लिए, भगवान की मूर्ति स्थापना के लिए या भगवान की तस्वीर लगाने के लिए सबसे उत्तम कोना माना जाता है।
दरअसल, इसका मुख्य कारण यह है कि ईशान कोण यानी उत्तर – पूर्वी कोने को वास्तु पुरूष का सिर माना गया है। इसीलिए घर के उत्तर-पूर्वी कोने को वास्तु के अनुसार सात्विक ऊर्जाओं का प्रमुख स्रोत माना गया है। ईशान कोण का अधिपति शिव को माना गया है। ईशान कोण घर के सभी अन्य क्षेत्रों से नीचा होना चाहिए। ऐसे घर में सकारात्मक ऊर्जा का निवास होता है। बाद में ये ऊर्जा पूरे घर में फैल जाती है।
उत्तर- पूर्व बृहस्पति की दिशा है। बृहस्पति ग्रह जीवन का कारक है। बृहस्पति को ज्योतिष के अनुसार धर्म व अध्यात्मक का कारक ग्रह माना गया है। इसीलिए भगवान की तस्वीर ईशान कोण में लगाना वास्तु के अनुसार बहुत शुभ माना गया है।