Advertisements

हम सुनायें तो कहानी और है – अहमद फ़राज़ शायरी

हम सुनायें तो कहानी और है

हम सुनायें तो कहानी और है
यार लोगों की जुबानी और है

चारागर रोते हैं ताज़ा ज़ख्म को
दिल की बीमारी पुरानी और है

Advertisements

जो कहा हमने वो मजमूँ और था
तर्जुमाँ की तर्जुमानी और है

है बिसाते-दिल लहू की एक बूंद
चश्मे-पुर-खूं की रवानी और है

Advertisements

नामाबर को कुछ भी हम पैगाम दें
दास्ताँ उसने सुनानी और है

आबे-जमजम दोस्त लायें हैं अबस
हम जो पीते हैं वो पानी और है

सब कयामत कामतों को देख लो
क्या मेरे जानाँ का सानी और है

अहले-दिल के अन्जुमन में आ कभी
उसकी दुनिया यार जानी और है

शाइरी करती है इक दुनिया फ़राज़
पर तेरी सादा बयानी और है

(चश्मे-पुर-खूं=खून से भरी हुई आँख,
आबे-जमजम=मक्के का पवित्र पानी,
अबस=बेकार, सानी=बराबर,दूसरा, कामत=
लम्बे शरीर वाला)

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisements