नृत्य अकादमी की सस्ती जमीन विवाद पर हेमा मालिनी का जवाब, नियमों के तहत खरीदी है जमीन

मुंबई (भारत): आखिर मथुरा से भारतीय जनता पार्टी )भाजपा) की सांसद हेमा मालिनी ने मुंबई में उन्हें डांस स्कूल खोलने के लिए ओने-पोन दामों में महाराष्ट्र  सरकार द्वारा जमीन दिए जाने के मामले में चुप्पी तोड़ ही दी . कथित तौर पर करोड़ों की जमीन का मात्र ७० हजार रुपये में उनके नाम आवंटन किये जाने के बाद से ही संसद हेमा मालिनी और महाराष्ट्र सरकार आलोचकों के निशाने पर हैं . मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने कहा कि जमीन उन्हें आवंटित किये जाने के दौरान सभी नियमों का पालन किया गया है और इस जमीन का वह कोई व्यावसायिक इस्तेमाल नहीं करेंगी बल्कि उनकी यहाँ पर एक डांस स्कूल खोल कर बच्चों को नृत्य सिखाने की इच्छा है .

ध्यान रहे कि हेमा मालिनी न सिर्फ भाजपा की सांसद हैं वरन प्रख्यात अभिनेत्री रही हैं और उन्होंने दर्जनों हिट फिल्मों में काम किया है . लेकिन इस सबसे ज्यादा जानने योग्य बात यह है कि हेमा मालिनी शास्त्रीय नृत्य में पारंगत हैं और उनके देश-विदेश में शो होते रहते हैं. शास्त्रीय नृत्य – संगीत की इसी परंपरा को आगे बढ़ने के लिए हेमा मालिनी एक नृत्य विद्यालय खोलना चाहतीं थीं जिसके लिए उन्होंने महाराष्ट्र सरकार से जमीन का आवेदन किया था .

किन्तु जमीन कौड़ियों के दाम पर दिए जाने का आरोप लगने के बाद यह मामला सुर्ख़ियों में आ गया और कहा गया कि नृत्य के नाम पर हेमा मालिनी ने करोड़ों की जमीन महाराष्ट्र सरकार की मिलीभगत से सस्ते दामों में हड़प ली है . ध्यान रहे कि हेमा भी भाजपा से संसद हैं और महाराष्ट्र में सरकार भी भाजपा की है . ऐसे में विपक्षी दलों के निशाने पर हेमा मालिनी का आ जाना स्वाभाविक ही है  .

किन्तु सबसे आश्चर्य की बात तब हुई जब हेमा खुद अपनी पार्टी भाजपा के सदस्यों के निशाने पर आ गई . उन्हें सस्ती जमीन दिए जाने के विवाद में भाजपा की वरिष्ठ नेत्री लक्ष्मी कांता चावला ने एक बयान में महाराष्ट्र की सरकार और हेमा मालिनी को आड़े हाथों लिया . उन्होंने कहा कि क्या हेमा ही देश में संस्कृति को बढ़ावा दे रही हैं जो करोड़ों की जमीन औने-पौने दाम में दे दी गई।

यह मामला तब जाहिर हुआ जब एक आरटीआई कार्यकर्त्ता की याचिका पर सरकार ने बताया कि हेमा मालिनी को मुंबई में एक प्लाट मात्र ७० हजार रुपये में आवंटित कर दिया गया है जहाँ पर जमीन के रेट के हिसाब से यह प्लाट करोड़ों रुपये का बैठता है .

इस बीच हेमा मालिनी ने एक वक्तव्य में कहा कि मैंने नृत्य अकादमी खोलने के लिए 20 साल संघर्ष किया है तब जाकर मुझे यह जमीन मिली है।