बीजेपी संसाद हेमा मालिनी रोज शराब पीती है- यह कहना है महाराष्ट्र के विधायक बाछू काडू का| किसानों की आत्महत्या पर एक भयानक रुख अपनाते हुए| महाराष्ट्र से स्वतंत्र विधायक बाछू काडू ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) लोकसभा सांसद हेमा मालिनी को खींचकर विवाद फैला दिया।

हेमा मालिनी रोज शराब पीती है- बाछू काडू

कजाई ने दावा किया था कि मदिरापान किसानों की आत्महत्या के लिए जिम्मेदार था| काडू ने कहा, “हेमा मालिनी हर रोज पीती हैं| लेकिन क्या वह आत्महत्या करती है?”

महाराष्ट्र के नांदेड़ में एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए, काडू ने कहा कि यह धारणा भी है कि विवाहों पर अतिरिक्त व्यय के बोझ के कारण किसान आत्महत्या कर रहे है। तर्क के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा, इन सभी कारणों की बातें अनावश्यक हैं। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपने बेटे की शादी में चार करोड़ रूपए खर्च किये| तो क्या हम अब उसके लिए उनकी आत्महत्या करने की प्रतीक्षा करें?

हेमा मालिनी रोजाना शराब पीती हैं

महाराष्ट्र गंभीर कृषि संकट से जूझ रहा है| रिपोर्ट बताती है कि हर दूसरे दिन किसान आत्महत्या करते हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक लगभग 90 लाख किसानों को सूखे से प्रभावित पाया गया है। 2015 में महाराष्ट्र में 3,228 किसानों ने आत्महत्या कर ली थी| राज्यसभा में 4 मार्च, 2016 को पेश आंकड़ों के मुताबिक- कि प्रति दिन लगभग नौ किसान मरते है| विदर्भ और मराठवाड़ा, 5.7 मिलियन किसानों के साथ, 2015 में महाराष्ट्र में सभी किसान आत्महत्याओं का 83% हिस्सा है|

काडु ने कहा, असली कारण यहाँ पैसे की कमी है। प्रोफेसर स्वामीनाथन ने हमेशा कहा कि किसानों का उत्पादन बढ़ रहा है लेकिन उनकी आय नहीं बढ़ रही है। किसी भी पार्टी ने उनकी बात को गंभीरता से नहीं लिया| आज परिणाम आप सबके सामने है| हमें किसानो के हित में जल्दी से जल्दी फैसले लेने होंगे| जिससे किसानो में आत्महत्या को रोका जा सके|

ऐसा पहली बार नहीं है जब हेमा मालिनी को लेकर किसी ने विवाद उत्पन्न किया है| पहले भी आरजेडी के नेता लालू प्रसाद यादव ने एक सभा को सम्बोधित करते हुए विवादस्पद ब्यान दिया था| लालू ने कहा था कि हम बिहार की सड़को को हेमा मालिनी के गालो की तरह चिकना कर देंगे|

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Pankaj Sharma
देश की राजनीति से जुडी ख़बरों पर कड़ी नजर रखते हैं. फिल्में देखने का है शौक. नयी जगहों पर घूमना अत्याधिक पसंद