Bharat ke Pramukh Darshaniya Sthal  par laghu nibandh

प्रस्तावना- भारत बहुत विशाल और प्राचीन देश है। इसकी प्राकृतिक शोभा भी बहुत निराली है। यह विश्व का अनोखा महान राष्ट्र है। हमारा विशाल देश भारत उत्तर में कश्मीर से लेकर दक्षिण में कन्याकुमारी तक फैला हुआ है। पूर्व में मिजोरम और नागालैंड से लेकर पष्चिम में गुजरात तक फैले भारत की प्राकृतिक शोभा देखने योग्य है।Hindi Essay on India's tourist places
प्राकृतिक शोभा- इसके उत्तर में विश्व का सबसे ऊँची चोटियों वाला पर्वत हिमालय है। इसकी चोटियाँ सदा बर्फ से ढकी रहती हैं। इन्हें देखकर ऐसा लगता है कि भारत देश ने अपने सिर पर सफेद मुकुट बांध रखा है।
दक्षिण में हिन्द महासागर की ऊँची ऊँची लहरें इस देश का सदा चरण स्पर्ष करती रहती हैं। यहाँ बहने वाली नदियाँ गंगा, यमुना, कृष्णा, कावेरी, नर्मदा आदि इसके गले में पड़ी मोनियों की माला के समान है।

उत्तरी भारत के दर्शनीय स्थल- उत्तरी भारत में अनेक दर्शनीय स्थल हैं। इनमें प्रमुख हैं- आगरा का ताजमहल, सिकन्दर, फतहपुर सीकरी, मथुरा, वृन्दावन और भरतपुर। इसी प्रकार गंगा, यमुना और सरस्वती के संगम पर स्थित प्रयोग भी देखने योग्य है। काषी की पौराणिक और सांस्कृतिक दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण नगर है।

राजस्थान में बहुत से स्थान दर्शनीय और ऐतिहासिक महत्व के हैं। चित्तौड़ का किला बहुत ही विशाल और देखने योग्य है। यहीं चित्तौड़ की रानी पद्मावती ने अपनी हजारों सखियों के साथ जौहर किया था। आज भी इस किले के खण्डहरों को देखकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं। जयपुर के पास स्थित आमेर राजभवन, जयपुर में हवा महल, जन्तर मन्तर आदि स्थान भारत की समृद्धि और अनूठी कला का परिचय देते हैं।

यह भी पढ़िए  राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी पर निबंध – Mahatma Gandhi Essay in Hindi

भारत का स्विट्ज़रलैंड कश्मीर- भारत के उत्तर मे स्थित कश्मीर तो स्वर्ग समान है। जेहलम के तट पर स्थित श्रीनगर की शोभा बहुत ही निराली है। यहाँ पर स्थित डल झील, चश्माशाही, शालीमार और निशात बाग आदि अनेक दर्शनीय स्थान हैं। इसी प्रकार भारत के उत्तर में स्थित उत्तर प्रदेश में अल्मोड़ा कोसानी, नैनीताल, मंसूरी आदि स्थान प्रतिवर्ष हजारों लाखों पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।

भारत के पश्चिमी भाग में स्थित अजन्ता, एलोरा की गुफायें, शिवाजी की स्थली पूना, मुम्बई के पास स्थित एलीफेंटा केवज भी अद्भुत आकर्षण के स्थल हैं। द्वारिकापुरी सांची के स्तूप, खजुराहों के मन्दिर, उज्जैन, पंचमढी ग्वालियर और जबलपुर अपने संस्कृति और कला के लिए बहुत प्रसिद्ध हैं।

भारत का पूर्वी भाग- भारत का पूर्वी भाग भी आकर्षण को केन्द्र है। आसाम के चाय के बाग और घाटियाँ, मणिपुर की विशाल प्राकृतिक शोभा और अरूणाचल प्रदेश की पर्वतीय घटा भी देखने योग्य है। कोणार्क का मन्दिर, जगन्नाथ पुरी का मन्दिर और पटना का ऐतिहासिक नगर अपनी महानता के लिए प्रसिद्ध है।

भारत का दक्षिणाचल- भारत के दक्षिणी प्रदेशों में भी अनेक दर्शनीय स्थल हैं। इन प्रदेशों मे स्थित गोलकुंडा का किला, महाबली पुरम, पक्षी तीर्थम, मदुराई, रामेश्वरम, कन्याकुमारी आदि दर्शनीय स्थानों को देखकर भारत का प्राचीन गौरव प्रत्यक्ष हो जाता है।

उपसंहार- इस प्रकार भारत में विभिन्न प्रकार के दर्शनीय स्थल हैं। यही कारण है कि यहाँ लाखों पर्यटक प्रति वर्ष भारत के इन दर्शनीय स्थानों को देखने के लिए आते हैं। हमें इन दर्शनीय स्थानों का रख रखाव सावधानीपूर्वक करना चाहिए जिससे इनका महत्व कम न हो।

यह भी पढ़िए  Short Hindi Essay on Raksha Bandhan रक्षा बंधन पर लघु निबंध

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें