क्या आप हिन्दू धर्म के बारे में ये रोचक तथ्य जानते हैं? – Hindu Dharm ke bare mein rochak tathya

Hindu Dharm ke bare mein rochak tathya

Hindu Dharm ke bare mein rochak tathyaदो पक्ष – कश्ण पक्ष, शुक्ल पक्ष।

तीन ऋण – देव ऋण, पितृ ऋण, ऋषि (गुरू ऋण)

चार युग – सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग, कलियुग।

चार धाम – द्वारिका, बद्रीनाथ, जगन्नाथपुरी, रोमश्वरम

चार पीठ – शारदा पीठ (द्वारिका), ज्योतिष पीठ (जोशीमठ, बद्रीनाथ), गोवर्धन पीठ (जगन्नाथपुरी), श्रृंगेरिपीठ

चार वेद – ऋग्वेद, अथवेद, यजुर्वेद, सामवेद।

चार आश्रम – ब्रहमाचर्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ, सन्यास

चार अन्तःकरण – मन, बुद्धि, चित्त, अहंकार

पंच गव्य – गाय का घी, दूध, दही, गोमूत्र, गोबर

पंच देव – गणेश, विष्णु, शिव, देवी, सूर्य

पंच तत्व – पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, आकाश

छह दर्शन – वैशेषिक, न्याय, सांख्य, योग, पूर्व मिसांसा, दक्षिण मिसांसा

सप्त ऋषि – विश्वामित्र, जमदाग्नि, भरद्वाज, गौतम, अत्री, वरिष्ठ और कश्यप ।

सप्तपुरी – अयोध्यापुरी, मथुरापुरी, मायापुरी, काशी कांची, अवंतिका और द्वारिकापुरी

आठ योग – यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारण, ध्यान एवं समाधि

आठ लक्ष्मी – आग्घ, विद्या, सौभाग्य, अमृत, काम, सत्य, भोग एवं योग लक्ष्मी।

नव दुर्गा – शैलपुत्री, ब्रहमचारिणी, चन्द्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायिनी, कालरात्रि, महागौरी एवं सिद्धिदात्री।

दस दिशाएं – पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण, इशान, नेऋत्य, वायव्य, अग्नि, आकाश एवं पाताल।

ग्यारह अवतार – मत्स्य, कच्छप, वराह, नरसिंह, वामन, परशु राम, श्रीराम, कृष्ण, बलराम, बुद्ध एवं कल्कि।

बारह मास – चैत्र, वैशाख, ज्येष्ठ, आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन, कार्तिक, मार्गशीर्श, पौश, माघ, फाल्गुन