जब हिन्दू- सिख भाइयों ने मिल कर मुसलमानों को दी तोहफे में मस्जिद

लुधियाना : रमजान के मौके पर आपसी सद्भाव और मेल जोल की मिसाल इस गांव में देखने को मिली जहाँ हिन्दू और सिखों ने मिल कर साथ रहने वाले मुसलमानों के लिए मस्जिद का निर्माण किया और तोहफे में दी.

hindu-muslim unity

लुधियाना के गालिब राण सिंह वाल गाँव के मुसलमानो को नमाज़ पढ़ने के लिए दुसरे गाँव जाना पड़ता था जिसको देख कर गांव के हिन्दुओं और सिखों ने मिल कर यह फैसला लिया कि गांव में ही मस्जिद का निर्माण होगा. गांव वालों के मुताबिक यह मस्जिद हमारी तरफ से मुस्लिम भाइयों के लिए ईद का तोहफा है.

मस्जिद का नाम हजरत अबू-बकर मस्जिद रखा गया है। वहीं खबर के मुताबिक इस मस्जिद को बनाने का फैसला 1998 में लिया गया था। इसके बाद मस्जिद बनाने के लिए जमीन एलॉट की गई थी। वहीं मस्जिद बनाने का काम बीते 2 मई से ही शुरू हो पाया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस गांव की आबादी काफी कम है। गांव की आबादी लगभग 1300 लोगों की है। इनमें से 700 सिख, 200 हिंदू और 150 लोग रहते हैं।

बता दें कि इससे पहले भी लोगों ने आपसी सद्भावना की जबरदस्त मिसाल पेश की थी जब बीते साल राजस्थान के सीकर जिले के लोगों ने जिले के कोलिडा गांव में मुस्लिम समुदाय द्वारा इस्तेमाल में बंद हो चुके एक कब्रिस्तान की जमीन, हिंदू समुदाय के लोगों को मंदिर का निर्माण के लिए दान कर दी गई थी।