जब हुर्रियत नेताओं ने कश्मीरी बच्चों को स्कूलों में भेजने का विरोध किया, तो वे अपने बच्चों के लिए सर्वश्रेष्ठ शिक्षा क्यों चाहते है

श्रीनगर: कुछ दिनों पहले कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी ने कश्मीरी माता-पिता से आग्रह किया था कि वे अपने बच्चों को सेना द्वारा चलाए जा रहे “सद्भावना” स्कूल में न जाने दें। हुर्रियत नेता ने कहा था – छोटी सामग्री के लाभ के लिए, हम अपनी अगली पीढ़ी को खो रहे हैं। सेना द्वारा संचालित संस्थान हमारे बच्चों को अपने धर्म और विशिष्ट संस्कृति के प्रति उदासीन बना रहे हैं|

कश्मीरी अलगाववादियों के बच्चे विदेशो में पढ़ रहे है

अन्य अलगाववादियों ने उसी धुन को गाया है। हालांकि ऐसे कई नेताओं के परिवार के सदस्यों और बच्चों को सर्वश्रेष्ठ शिक्षा मिली हुई है| वे सब विदेशों में बस गए हैं और अंत में एक शानदार जीवन जी रहे हैं। सैयद अली शाह गिलानी का पहला मामला लेते है- गीलानी का पुत्र नाइम गिलानी पाकिस्तान के रावलपिंडी में एक चिकित्सा व्यवसायी हैं। उसका दूसरा बेटा ज़हूर, भारत की एक निजी एयरलाइन के चालक दल का सदस्य हैं, एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक| गिलानी की बेटी जेद्दा में एक शिक्षक है और उसका पति वहां एक इंजीनियर है।

जब हुर्रियत नेताओं ने कश्मीरी बच्चों को स्कूलों में भेजने का विरोध किया

गिलानी गुट के एक महासचिव मोहम्मद अशरफ सेहराई ने भी अपने बच्चे के लिए सर्वश्रेष्ठ शिक्षा का लाभ उठाया। उसका बेटा अबिद सेराही, दुबई में एक कंप्यूटर इंजीनियर हैं। जबकि गुलाम मुहम्मद सुमजी के बेटे जुगनू दिल्ली में एक प्रबंधन छात्र है| मास मूवमेंट फरीदा बेहानजी के सिर के पुत्र रुमा मकबूल दक्षिण अफ्रीका में एक मेडिकल प्रैक्टिशनर के रूप में काम करते हैं। जम्मू एवं कश्मीर लोकतांत्रिक मुक्ति पार्टी के प्रमुख हाशिम कुरैशी के बेटे इकबाल और बिलाल लंदन में रहते हैं।

गीलानी गुट के प्रवक्ता अयाज अकबर, सरवार याकूब, पुणे में एक प्रबंधन छात्र हैं। गिलानी गद्दी अब्दुल अजीज दार-उमेर दर और आदिल डार के एक अन्य नेता के दो बेटे – पाकिस्तान में पढ़ रहे हैं। इसके अलावा, मारीयाम अंद्राबी, कट्टरपंथी दुखरान-ए-मिलत आसिया अंद्राबी की बहन अपने परिवार के साथ मलेशिया में रहती है। आसिया अपने बड़े बेटे को आगे के अध्ययन के लिए मलेशिया भेजना चाहते थे| लेकिन उन्हें पासपोर्ट से इनकार कर दिया गया। आसिया के बड़े बेटे मोहम्मद बिन कासिम मलेशिया के इस्लामी विश्वविद्यालय में सूचना प्रौद्योगिकी में बैचलर्स की पढाई की है और अब आगे के अध्ययन के लिए ऑस्ट्रेलिया में हैं।

पिछले साल घाटी में 20 से अधिक स्कूलों पर हमले से संबंधित कई घटनाएं हुईं। इस घटना के पीछे अलगाववादियों के हाथ संदेह है। अगर कश्मीरी अलगाववादी बच्चो की पढाई को सही मानते है| तो उन्होंने अपने बच्चो को क्यूँ इतना पढ़ा-लिखा बनाया है| इस वर्ष छात्रों ने कश्मीर घाटी के अलग-अलग हिस्सों में पत्थर-छलकों और सुरक्षा बलों के साथ झगड़ा किया है।