भारतीय रेलवे की अंडमान और निकोबार में 240 किलोमीटर लंबी रेल ट्रैक बनाने की योजना

पोर्ट ब्लेयर: अंडमान और निकोबार द्वीप समूह अपनी पहली रेलवे ट्रैक पाने के लिए तैयार हैं। मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक रेल मंत्रालय जल्द ही पोर्ट ब्लेयर और दिगलीपुर के बीच 240 किलोमीटर की दूरी पर ब्रॉड गेज रेलवे ट्रैक बनाने की मंजूरी देगी| जो अंदमान द्वीप के उत्तर में स्थित है।

अंडमान और निकोबार अपनी पहली रेल लाइन के लिए उत्साहित है

वर्तमान में दो शहरों को 350 किलोमीटर की बस सेवा से जोड़ा जाता है| जिसमे 14 घंटे से अधिक समय लगता है। परिवहन का दूसरा तरीका जहाज है जो लगभग 24 घंटे लगता हैं। प्रस्तावित रेलवे लाइन न केवल पर्यटन क्षेत्र में सुधार लाएगी, बल्कि यह बहुत सामरिक मूल्य का भी होगा। रेलवे ट्रैक का निर्माण करने की लागत 2,413.68 करोड़ होगी और विशेष रूप से केंद्र शासित प्रदेश प्रशासन लागत का 50 प्रतिशत हिस्सा देने पर सहमत हो गया है।

अंडमान और निकोबार अपनी पहली रेल लाइन के लिए उत्साहित
www.hdnicewallpapers.com

पोर्ट ब्लेयर एकमात्र ऐसा स्थान है, जो भारत की पहली और एकमात्र त्रि-सर्विस कमांड मेजबान है। सेना, नौसेना और वायु सेना एक एकीकृत कमान के तहत यहां काम करते हैं। सुरक्षा निति से यह स्थान सामरिक गतिविधियों के लिए भी उपयुक्त है| भारत सरकार चाहती है कि इस जगह को रेल सुविधा से जोड़ा जाये| जिससे यहाँ सेना के साथ-साथ पर्यटकों भी अधिक सुविधा मिल सकें| अभी यहाँ पर केवल बस या पानी के जहाज से ही यात्रा संभव है| जिसमे काफी समय भी लगता है और यह अपेक्षाकृत महंगा भी है|

पूर्वोत्तर क्षेत्र के सीमावर्ती इलाकों में बेहतर संपर्क स्थापित करने के अपने प्रयास में, केंद्र सरकार ने अरुणाचल प्रदेश में तवांग, बैमी और पासीघाट को रेलवे लाइनें प्रस्तावित की हैं। पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफआर) भालुकपोंग से तवांग, सिलापथार-उत्तर लखीमपुर-बाममी और मुरकोंगसेलेक-रुपाई-पासीघाट के बीच रेलवे पटरी लगाने के लिए तीन सर्वेक्षण करने जा रहा है। भालुकपोंग से तवांग के बीच प्रस्तावित रेलवे लाइन भी देश में सबसे ऊंची 9, 000 फीट होगी – उन्होंने कहा।