भारत का ‘अनमोल उपहार’ कल दक्षिण एशिया उपग्रह उतरने के लिए तैयार, इसरो प्रमुख ने दी जानकारी

साउथ एशिया कम्युनिकेशन सैटेलाइट के प्रक्षेपण की तैयारी, जीएसएटी -9 पूर्ण प्रहार में है क्योंकि भारत की अनमोल उपहार कल लॉन्च के लिए निर्धारित है – इसरो के अध्यक्ष ए एस किरण ने संवाददाताओं को बताया।

भारत का 'अनमोल उपहार' कल दक्षिण एशिया उपग्रह उतरने के लिए तैयार,

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा निर्मित जिओस्टेशनरी कम्युनिकेशन सैटेलाइट श्रीहरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर से लगभग 100 किलोमीटर दूर विस्फोट करेगी। आठ सार्क देशों में से सात इस परियोजना का हिस्सा हैं| पाकिस्तान ने यह कहते हुए चुना जाना पसंद नहीं किया कि “उसका अपना अंतरिक्ष कार्यक्रम है।”

अनमोल उपहार दक्षिण एशिया के लिए वरदान

उपग्रह अंतरिक्ष एजेंसी के रॉकेट जीएसएलवी-एफ 09 बोर्ड पर लॉन्च किया जाएगा। लगभग 235 करोड़ रुपये की लागत वाली सैटेलाइट पड़ोसी देशों की 12 कू बैंड ट्रांसपोंडरों के माध्यम से सेवा करेगी और इसमें 12 साल का मिशन जीवन होगा। सैटेलाइट दक्षिण एशिया क्षेत्र के देशों के बीच संचार और आपदा समर्थन कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए है। यह डीटीएच के मामले में प्रत्येक भाग लेने वाले देशों को एक महत्वपूर्ण क्षमता प्रदान करेगा| जबकि कुछ वीएसएटी क्षमता और आपदा सूचना हस्तांतरण के लिए राज्यों के बीच जुड़ा होगा। कुमार ने हवाईअड्डे पर यहां संवाददाताओं से कहा, हमारे पास कल शाम को इसे लांच करने का समय है| सभी गतिविधियों को सुचारू रूप से चेक कर लिया गया है|

मई 2014 में सत्ता में आने के बाद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो के वैज्ञानिकों से सार्क उपग्रह विकसित करने को कहा था| जो कि पड़ोसी देशों को “भारत से उपहार” के रूप में समर्पित किया जा सकता है। रविवार को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम पर मोदी ने घोषणा की थी कि दक्षिण एशिया उपग्रह भारत के अपने पड़ोसी देशों के लिए अनमोल उपहार होगा।