Advertisements

जिसकी समानता किसी ने कभी पाई नहीं, पाई के नहीं अब वे ही लाल माई के में कौन सा अलंकार है?

जिसकी समानता किसी ने कभी पाई नहीं, पाई के नहीं अब वे ही लाल माई के में कौन सा अलंकार है?

jiski samanta kisi ne kabhi pai nahin pai ke nahin ab ve ve hi lal mai ke mein kaun sa alankar hai

जिसकी समानता किसी ने कभी पाई नहीं, पाई के नहीं अब वे ही लाल माई के

Advertisements

प्रस्तुत पद में पाई शब्द के दो अर्थ है एक का अर्थ होता है प्राप्त होना और दूसरे का अर्थ है दूसरे इस लिए इसमें यमक अलंकार है। जब काव्य में कोई शब्द दो बार आए और दोनों ही बार अर्थअलग अलग हो तो वहाँ यमक अलंकार होता है।

प्रस्तुत पंक्ति में यमक अलंकार का भेद:

इस पंक्ति में शब्दों को ज्यों का त्यों रख दिया गया है इसलिए इसमें अभंग पद यमक अलंकार है।

Advertisements

यमक अलंकार का अन्य उदाहरण:

आप यमक अलंकार को अच्छी तरह से समझ सकें इसलिए यमक अलंकार के कुछ अन्य उदाहरण निम्नलिखित हैं:

“जगती जगती की मूक प्यास “ इस पंक्ति में जगती में अभंग पद अलंकार है।

“काली घटा का घमंड घटा “इसमें घटा शब्द का प्रयोग दो बार हुआ है जिसके दो अर्थ है बादल और घटना।

काव्य पंक्ति में अन्य अलंकार –

अलंकार के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर जाएँ:

अलंकार – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण 

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisements