जो रहीम होती कहूं, प्रभु गति अपने हाथ – Rahim Ke Dohe

रहीम के दोहे Rahim dohe in English

जो रहीम होती कहूं, प्रभु गति अपने हाथ।Rahim ke dohe
तौ कोधौं केहि मानतो, आप बड़ाई साथ।।

Jo rahiman hoti kahun, prabhu gati apne hath
Tou kondhon kehi manto, aap badhaai saath

अर्थात (Meaning in Hindi): यदि अपना कोई प्रियजन रूठकर मुंह मोड़ ले तो उससे विरक्त नहीं होना चाहिए, उसे मनाने का अवश्य प्रयत्न करना चाहिए। अपनों में रूठना मनाना चलता रहता है। ऐसा नहीं सोचना चाहिए कि एक बार जो रूठ गया, उसे दोबारा अपना मीत नहीं बनाया जा सकता। हां यदि स्वयं भी रूठकर मनाने का प्रयास न किया जाए तो मीत से हमेशा से हाथ धोना पड़ सकता है।

रहीम कहते हैं, यदि मीत का हदय भ्रमवश टूट जाए और वह रूठ जाए तो उसका हदय जरूर जोड़ना चाहिए, ताकि वह रूठना छोड़कर फिर अपना बन जाए। भले वह सौ बार रूठे, उसे बार बार मनाने से चूकना नहीं चाहिए। यदि मुक्ताहार बार बार टूटे तो क्या दाने उठाकर दोबारा नहीं पिरोए जाते?


दोनों रहिमन एक से, जौ लौं बोलत नाहिं।
जान परत हैं काक पिक, ऋतु बसंत के मांहिं।।

Donon rahiman ek se, jou loun bolat naahin
Jan parat hain kak pik, ritu basant ke maanhin

अर्थात (Meaning in Hindi): दो व्यक्ति एक जैसे लग सकते हैं, किंतु यह आवश्यक नहीं कि उनका व्यवहार और वाणी भी एक समान हो। उनके विपरीत और भिन्न स्वभाव का पता तब चलता है, जब वे बोलते और व्यवहार करते हैं।

रहीम कहते हैं, पेड़ की डाल पर बैठे कौआ व कोयल जब तक बोलते नहीं, तब तक देखने में एक जैसे प्रतीत होते हैं। किंतु जब बसंत ऋतु आती है और वे बोलने लगते हैं, तब उनकी वाणी सुनकर उनके स्वभाव और व्यवहार का पता चलता है। कौए की वाणी कर्कष होती है, जो मन को खिन्न करती है, और कोयल की मधुर वाणी सुनकर मन आहादित होता है।


पुरूष पूजें देवरा, तिय पूजें रघुनाथ।
कहि रहीम दोउन बने, पंड़ो बैल को साथ।।

Purush poojen devra, tiy poojen raghunath
Kahi rahim doun bane, pando bail ko sath

अर्थात (Meaning in Hindi): रहीम ने इस दोहे में गृहस्थी में सुंतलन बनाए रखने का आग्रह किया है। यह नितांत सत्य है कि असंतुलित गृहस्थी कभी सुचारू रूप से नहीं चल सकती। इसमें सबसे बड़ा योगदान होता है पति पत्नी का। पति पत्नी गृहस्थी रूपी गाड़ी के दो पहिए होते हैं। इनके पारस्परिक कामों और विचारों में सामंजस्य नहीं हुआ तो गृहस्थी की गाड़ी ठप्प पड़ जाती है।

रहीम कहते हैं, पति पत्नी को कभी विपरीत दिशाओं में नहीं चलना चाहिए। यदि मनोवांछित सिद्धियां पाने के लिए पुरूष भूत प्रेतों को पूजे और स्त्री रघुनाथ राम को तो यह विपरीत वैचारिकता बड़ी घातक सिद्ध होती है। इस प्रकार दोनों भैंस व बैल का जोड़ा बनते हैं, जो गृहस्थी की गाड़ी को अपने गंतव्य तक पहुंचाने में असमर्थ होते हैं।


रहिमन अंसुआ नैन ढरि, जिय दुख प्रगट करेइ।
जाहि निकारो गेह ते, कस न भेद कह देह।।

Rahiman ansua nayan dhari, jiy dukh pragat karei
Jahi nikaaro geh te, kas na bhed kah dei

अर्थात (Meaning in Hindi): हदय में जो घनीभूत पीड़ा छाई होती है, वह आंसू बनकर छलकर पड़ती है और चित्त का सारा भेद प्रकट कर देती है। अतः व्यक्ति को धैर्यवान होना चाहिए। उसे दुर्दिनों में भी आंसू पीने की क्षमता रखनी चाहिए और उसे मन का भेद किसी के सामने प्रकट नहीं करना चाहिए। वस्तुतः आंसू देखकर कोई दुख बांटने नहीं आता, बल्कि लोगों पर मन की क्षीणता प्रकट हो जाती है और वह उपहास का पात्र बन जाता है।

रहीम कहते हैं, यह सच है कि आंखों से आंसू छलकते हैं तो हदय का दर्द प्रकट कर ही देते हैं। किंतु मन का भेद जग जाहिर करना हानिप्रद है। कोई भी उसका अनुचित लाभ उठा सकता है। चुगलखोर आंसू ठीक उसी पारिवारिक सदस्य की तरह होते हैं, जिसे घर से निकाल दिया जाए तो वह घर का भेद अवश्य सबको बता देता है।


रहिमन निज संपति बिना, कोउ न बिपति सहाय।
बिनु पानी ज्यों जलज को, नहिं रवि सकै बचाय।।

Rahiman nij sampati bina, kou na bipati sahaay
Binu pani jyon jalaj ko, nahin ravi sakai bachaay

अर्थात (Meaning in Hindi): सदैव अपने बाहुबल पर भरोसा करना चाहिए। कोई दूसरा किसी के लिए हाथ पैर नहीं चलाता। दुर्दिन में किसी से सहायता की आशा रखना व्यर्थ है। अपनी सहायता आप करके ही दुर्दिनों से उबरा जा सकता है। यदि संचित संपत्ति है तो संकटकाल में वही काम आती है। दूसरों से अपेक्षा नहीं रखनी चाहिए कि संकट में वह वित्तीय सहायता देगा।

रहीम कहते हैं, आपदाओं और विपदाओं से घिरा हुआ वही व्यक्ति उबर नहीं पाता, जो दूसरों की मदद की प्रत्याषा में बैठा रहता है। हमेशा खुद पर भरोसा रखना चाहिए। इसके लिए आवश्यक है कि अपने पास समय-असमय में हमेशा थोड़ा बहुत धन होना चाहिए, क्योंकि निज संपत्ति के बिना विपत्ति में कोई सहायक नहीं। यदि संपत्ति है तो दूसरों की सहायता भी सहज ही उपलब्ध होती है। कमल पानी में खिलता है तो सूर्य उसे विकसित करता है किंतु यदि पानी ही सूख जाए तो सूर्य भी उसे बचा नहीं पाता।