हमसे जुड़ें

दोस्तों हिन्दीवार्ता के माध्यम से हम निष्पक्ष तथा पारदर्शी पत्रकारिता को पूरे देश के लोगों तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं. इस वेबसाइट के माध्यम से हमारा लक्ष्य इस देश के सभी हिंदीभाषियों तक सही और सटीक खबर पहुँचाना है.

हिन्दीवार्ता के साथ सिर्फ 6 महीने में हमने बहुत बड़ा नेटवर्क खड़ा कर लिया है. इस प्लेटफार्म के माध्यम से हिन्दीवार्ता 2 करोड़ से अधिक देश वासियो तक अपनी आवाज़ पहुंचाता है.

इस कार्य में हमें देश के 25 से अधिक लेखकों का प्रशंसनीय सहयोग मिला जिनकी कठिन परिश्रम के बदौलत बेहद कठिन काम को आसान बना दिया. आप लेखकों के स्वैच्छिक सहयोग के बिना यह सब संभव न था.

देश के कोने कोने से प्रतिभावान लेखकों को ढूंढना और उनसे जुड़ने की आकांक्षा ने हमें हिन्दीवार्ता की वेबसाइट को और भी सुगम बनाने पर मजबूर किया.

यदि आप भी एक लेखक हैं और अपने आस पास की घटनाओं को रिपोर्ट करना चाहते हैं तो कृपया यहाँ रजिस्टर करें और शुरू करें आज से ही लिखना. आपके लेखों में जरूरी संशोधन के पश्चात हिन्दीवार्ता उन्हें आपके नाम और प्रोफाइल के साथ प्रकाशित करेगा और इस तरह आपकी बात देश के कोने कोने तक आसानी से पहुँच सकेगी.

प्रकाशन की नीति

हिन्दीवार्ता आप सभी हिंदी प्रेमियों का स्वागत करता है। आप भी अपने विचार हिन्दीवार्ता के माध्यम से व्यक्त कर सकते हैं और विश्व भर से हमारे पाठकों तक पहुंचा सकते हैं। हिन्दीवार्ता सम्पादकीय टीम आप द्वारा भेजे गए लेखों एवं रचनाओं को प्रसंस्करण के पश्चात प्रकाशित करते हैं !

लेख प्रकाशन की नीति – “सबका आदर सबका सम्मान”

हिंदी वार्ता पर हम ऐसे किसी भी रचना को स्वीकार नहीं करते जो

  • किसी व्यक्ति-विशेष, जाति, धर्म, संस्कृति आदि के प्रति अपमान या विद्वेष की भावना से प्रेरित हो.
  • वैसे लेख जो धार्मिक उन्माद फैलाने हेतु लिखे गए हों,
  • कॉपी किये गए लेख एवं रचनाएं – (आप अपने लेख स्वयं लिखें और उसे ही हमें प्रकाशन के लिए भेजें) आप अपनी रचना के साथ अपनी तस्वीर भी प्रकाशन हेतु भेज सकते हैं।
  •  हिंदी वार्ता पर प्रकाशित रचनाओं को हिंदी वार्ता पर ही अन्यत्र पुनर्रुद्धरण के सिवा रचना पर उसके लेखक का पूर्ण अधिकार होगा।

अपनी रचना हमें भेजने के लिए यहाँ रजिस्टर करें और उसके पश्चात् आप अपने लेख इस पेज के माध्यम से हिंदीवार्ता पर प्रकाशित कर सकते हैं.

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •