यहाँ शाही तरीके से कराई गई जंगल के राजा और रानी की शादी…

दुनिया में आपने ऐसी कई शादियों के बारे में सुना होगा जो अजीबो-गरीब तरीके से किये जाते हैं. कही प्रेमी युगल हवा में उड़ते हुए शादी करते हैं. तो कही पानी के बीचो-बीच. कही दो प्यार करने वाले अपने शादी के सपने को बुढ़ापे में पूरा करते हैं तो कही कम उम्र कि युवती को अधिक उम्र के पुरुष से प्यार हो जाता है.

ऐसी ही शादी का एक बेहतरीन मंज़र बांग्लादेश के चिटगांव में देखने को मिला है. यहाँ शादी और उसके बाद दी गई पार्टी खूब चर्चे में है. दरअसल यह शादी किसी इसानी जोड़े की नही बल्कि एक शेर और शेरनी की थी.

यह शादी चिटगांव के एक चिड़ियाघर में हुई. नए शादीशुदा जोड़े शेर नाभा और शेरनी नोवा के शादी के बाद एक रिसेप्शन पार्टी का भी आयोजन किया गया. इस पार्टी का आयोजन चिड़ियाघर के देखरेख करने वालों ने की थी. इस खास पार्टी में करीब 400 मेहमान शामिल हुए. चिड़ियाघर के कर्मचारियों का कहना है कि इस पार्टी के आयोजन का खास मकसद लोगों का ध्यान चिड़ियाघर के ओर आकर्षित करना था.

इस मौके पर चिटगांव स्थित इस चिड़ियाघर को रंग-बिरंगे गुब्बारों से सजाया गया था. इस सजावट और पार्टी का लुफ्त उठाने के लिए स्कूलों से बच्चों को भी बुलाया गया था. आयोजन की ख़ास बात यह रही कि नवविवाहित जोड़े के लिए एक दिल के आकर का केक बनवाया गया था. यह केक 10 किलो का था. यह केक, बीफ, चिकन, अंडें और फ्रायड लीवर से बनाया गया था. स्कूली बच्चों के लिए कॉन्सर्ट का भी आयोजन किया गया था.

चिडियाघर के अधिकारियों ने बताया कि नव-विवाहित शेर नाभा को रंगपुर के चिड़ियाघर से लाया गया था. नाभा का असली नाम बादशाह था. लेकिन जब उसे चिटगांव के चिड़िया घर लाया गया तो उसका नाम बदलकर नाभा रख दिया गया. वहीँ नाभा की नौ-नवेली दुल्हन नोवा का जन्म चिटगांव के चिड़ियाँ घर में ही 11 साल पहले हुआ था.

हालाँकि इस शादी के बाद भी ये जोड़ा साथ नहीं रह पायेगा. अभी कुछ दिन इन्हें दूर रहना पड़ेगा. इन दोनों को आमने-सामने एक पिंजड़े में रखा जायेगा. ऐसा इस लिए किया जाता है ताकि इन्हें एक दुसरे की आदत पड़ जाये और आमने सामने आने के बाद एक दुसरे से दोस्ताना रवैया अपना सकें. आम तौर पर जब एक दुसरे से अनजान जानवर आमने-सामने आते हैं तो खास तौर पर मादा पुरुष के साथ आक्रामक रुख दिखाती है और हमलावर हो जाती है.