कर्नाटक मे दिखेगा आज बंद का असर, नहीं चलेगी मेट्रो, बस, ऑटोरिक्शा और कैब

Advertisement

बेंगलुरु: सोमवार (12 जून, 2017) कन्नड़ संगठनों द्वारा अपनी मांगों को मनवाने के लिए राज्यव्यापी बंद का बेंगलुरु पर कोई बड़ा प्रभाव नहीं पड़ रहा है|कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम और बेंगलुरु मेट्रोपोलिटन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन की बसे सोमवार की सुबह शहर में चलती नज़र आ रही हैं| इसलिए परिवहन सेवाओं पर कोई बड़ा असर नहीं होगा। मेट्रो चल रही है| ऑटो चालक संघ और टैक्सी ऑपरेटर संघ ने पहले ही कहा था कि वे बंद में शामिल नहीं होंगे।

कर्नाटक मे दिखेगा आज बंद का असर, नहीं चलेगी मेट्रो, बस, ऑटोरिक्शा और कैब

कर्नाटक के गुलबर्ग में बंद प्रभाव नहीं छोड़ प् रहा है क्योंकि नियमित कार्य जारी है| समाचार एजेंसी एएनआई ने एक स्थानीय को यह कहते हुए उद्धृत किया। कर्नाटक बंद के कारण विश्वेश्वराय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने अपना सातवीं सेमेस्टर परीक्षा स्थगित कर दी है। बंगलौर विश्वविद्यालय ने अपनी चौथी सेमेस्टर स्नातकोत्तर परीक्षा स्थगित कर दी है। परीक्षाओं की नई तारीखें अब तक घोषित नहीं की गई हैं। कर्नाटक राज्य माध्यमिक शिक्षा परीक्षा बोर्ड डी एड / डी ई ई और अन्य के द्वारा आयोजित परीक्षाएं भी 13 जून को स्थगित कर दी गई हैं। हालाँकि स्कूलों और कॉलेजों के लिए कोई छुट्टियां घोषित नहीं की गई हैं|

Advertisement

कर्नाटक में बंद से सभी परीक्षाएं स्थगित

दास बंद के लिए सुबह कन्नड़ निकायों की एक छाता संगठन ‘कन्नड़ ओकुटा‘ के नाम से बुलाया गया है। उनकी चार्टर मांगो के अलावा कृषि ऋण छूट, महदायी नदी जल विवाद में प्रधानमंत्री का हस्तक्षेप, शुष्क इलाकों में पानी की कमी की समस्या का स्थायी समाधान और राज्य से महाराष्ट्र एकाकार समिति (एमईएस) कार्यकर्ताओं का निर्वासन शामिल है। कन्नड़ ओकुटा के प्रमुख वाटल नागराज ने एक बयान में कहा कि बंद तमिलनाडु कावेरी नदी के पार मेकाडेतु परियोजना के विरोध और बीईएमएल के निजीकरण के प्रस्ताव के खिलाफ है।

कन्नड़ ओकुटा जिसने कई तरह के विचारधारा वाले संगठनों से समर्थन का दावा किया| उसने कहा कि नागराज ने कर्नाटक नियोक्ता एसोसिएशन के कार्यालय पदाधिकारियों से मुलाकात के लिए बंद समर्थन के लिए आज मुलाकात की। कर्नाटक सरकार ने पड़ोसी गोवा के साथ दोनों राज्यों के बीच महदायी नदी के जल को साझा करने के बड़े मुद्दे पर बंद कर दिया है। कल्सा-बाड़ीरी परियोजना कर्नाटक द्वारा हुबली-धारवाड़ के दो शहरों बेलागवी और गदग जिलों में पेयजल आपूर्ति को बेहतर बनाने के लिए किया जा रहा है। महदायी ट्रिब्यूनल ने राज्यों से कहा है कि वे इस मुद्दे को तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप के साथ या बिना वार्ता के जरिए अदालत के निपटान से बाहर निकालने के लिए हल करें।

Advertisement