कश्मीर को मिलेगा दुनिया का सबसे बड़ा रेलवे पुल

Advertisement

जम्मू एंड कश्मीर: 1,250 करोड़ रुपये की लागत से 1.3 किलोमीटर लम्बे रेलवे पुल का निर्माण किया जा रहा है। जम्मू और कश्मीर में चिनाब नदी के ऊपर 359 मीटर ऊंची उड़ान भरने वाला दुनिया का सबसे बड़ा रेलवे पुल जो कि पेरिस में प्रतिष्ठित एफिल टॉवर से 30 मीटर ऊंचा होगा। रियासी जिले के गांव कौर में कटरा-बनिहाल रेलवे लाइन पर पुल, जून 2019 तक पूरा होने की संभावना है क्योंकि 66 प्रतिशत से ज्यादा काम खत्म हो गया हैं।

कश्मीर को मिलेगा दुनिया का सबसे बड़ा रेलवे पुल

कोंकण रेलवे के मुख्य अभियंता आर के सिंह ने आज कहा कि 1,250 करोड़ रुपये की लागत से 1.3 किलोमीटर लम्बे पुल का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने पीटीआई से कहा कि 2019 तक पुल को पूरा करने के लिए 1,300 से अधिक श्रमिक और 300 इंजीनियर काम कर रहे हैं। इसका निर्माण 2004 में शुरू हुआ था| लेकिन 2008-09 में क्षेत्र में लगातार उच्च वेग हवाओं के कारण रेल की सुरक्षा के पहलू पर ध्यान देते हुए काम बंद कर दिया गया था।

Advertisement

उप महानिदेशक आरआर मलिक ने कहा, रेलवे ने क्षेत्र का फिर से सर्वेक्षण करने का फैसला किया और कुछ वैकल्पिक साइट को खोजने का फैसला किया| जिससे पुल का निर्माण चिनाब नदी पर 100 किलोमीटर प्रति घंटे के उच्च वेग वाली हवा से बचने के लिए किया जा सके| अंत में यह तय किया गया कि साइट को बदलने से कोई फायदा नहीं होगा| क्योंकि जब उच्च ऊंचाई पर ध्यान दिया तो यह सबसे उपयुक्त जगह लग रही थी। उन्होंने दावा किया कि निर्माणाधीन पुल 260 किलोमीटर प्रति घंटे तक का सामना कर सकता है और इसकी उम्र 120 साल होगी।

दुनिया का सबसे बड़ा रेलवे पुल 2004 से बन रहा है

उन्होंने कहा कि चिनाब नदी के दूसरी तरफ रेलवे विभिन्न लंबाई के तीन बड़े सुरंगों – टी 2 (5.9 किलोमीटर), टी 3 (9.369 किलोमीटर) और टी 14 (13 किलोमीटर) का निर्माण कर रहा है। एएफसीएएनएस कंसट्रक्शन कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर एस एम विस्वामूर्ति ने कहा कि यह एएफसीएएनएस, वीएसएल और अल्ट्रा कंपनियों का एक संयुक्त उद्यम है। कंपनी ने पुल का निर्माण किया है और कटरा से बनिहाल तक रेल ट्रैक बिछाने के लिए बहुत कठनाईओ का सामना करना पड़ा| उन्होंने कहा कि 80 प्रतिशत रेल लाइन को सुरंगों से गुजारना होगा जो निर्माण के अधीन हैं। उन्होंने कहा कि कंपनी ने सभी निर्माण सामग्री को पुल के स्थान पर ले जाने के लिए 20 करोड़ रुपये की लागत से इटली से एक क्रेन खरीदा है।

Advertisement
youtube shorts kya hai

उन्होंने कहा कि क्रेन पुल पूरा होने के बाद एक रेलवे संपत्ति बन जाएगी और रखरखाव के प्रयोजनों के लिए वहां स्थापित रहेगी । उन्होंने कहा कि यह चिनाब नदी पर इस तरह के एक उच्च पुल का निर्माण करने वाला सबसे चुनौतीपूर्ण काम है| जून 2019 तक परियोजना को पूरा करने के लिए उन्होंने अपने उच्च मनोबल वाले इंजीनियरों और श्रमिकों को बधाई दी। विश्वमूर्ति ने कहा कि यह दुनिया में सातवें सबसे बड़े आकार का पुल है क्योंकि नदी के दोनों किनारों के अलावा कोई समर्थन नहीं है और एक समर्थन आरसीसी और इस्पात स्तंभ 133 मीटर ऊंची है।

कश्मीर को मिलेगा दुनिया का सबसे बड़ा रेलवे पुल

रेलवे पुल के निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने किस किस से मदद ली

मलिक ने कहा कि फोर्स टेक्नोलॉजी फर्म डेनमक ने रेलवे पुल के निर्माण के लिए एक मॉडल अध्ययन किया है| जबकि यूएस-आधारित आईटीएएससीए कंपनी ढलान स्थिरीकरण में सहायता प्रदान करती है। आईआईटी दिल्ली के प्रोफेसर के जे राव परियोजना सलाहकार हैं और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस के डॉ टी जी सीता राम ने भी निर्माण कार्य में मदद की है। यूके स्थित सलाहकार डेविड मैकांजी द्वारा स्टील के काम की निगरानी की जा रही है| उन्होंने दावा किया कि सभी नींव के काम के अलावा ढलान कटाई, ट्रांजीशन कर्व्स और कर्व्स पूरा हो चुका है।

वरिष्ठ अनुभाग इंजीनियर अनुप खुशी ने कहा- रेलवे ने पुल के निर्माण और श्रमिकों और इंजीनियरों की सुरक्षा के लिए दो सीआरपीएफ बटालियन तैनात किए हैं । एक प्रवक्ता ने बताया कि एक रेलवे ट्रैक कटरा-सलाल लगभग पूरा हो चूका है जिस पर डीएमयू चलाने की योजना है। लाइन पर पहली ट्रेन उधमपुर-श्रीनगर के बीच 2020 में चलेगी।

Advertisement