जीव हत्या खेल नहीं पाप है – शिक्षाप्रद कहानी

Advertisement

किसी गांव में कुछ शरारती लड़के रहते थे। एक दिन के गांव के एक तालाब में मेंढ़कों पर पत्थर फेंक कर खेल का आनन्द ले रहे थे। जैसे ही मेंढ़क पानी की सतह पर आते, लड़के उनको पत्थरों से मारते। मेंढ़कों को घायल होकर मरता देखकर उन्हें बहुत प्रसन्नता होती और वे तालियां बजाते।

जीव हत्या खेल नहीं पाप है

शिक्षाप्रद कहानियाँ

Advertisement

बहुत बड़ी संख्या में मेंढ़कों को घायल होते और मरते देखकर मेंढ़कों का सरदार परेशान हो गया। उसने हिम्मत जुटाई और तालाब से बाहर आकर बच्चों से बोला- ”बच्चों, तुम क्या कोई दूसरा खेल नहीं खेल सकते?“ शायद तुम लोगों को हमारी परेशानी की जानकारी नहीं है। जिस काम को तुम खेल समझते हो वह हमारे लिए मृत्यु है। इसलिए अच्छे बच्चों, कोई और खेल खेलो।

शिक्षा – जीव हत्या खेल नहीं पाप है, इससे बचना चाहिए।

Advertisement