कुलभूषण जाधव पाकिस्तान से नहीं ईरान से पकड़ा गया था- पूर्व आईएसआई अफसर

नई दिल्ली: कुलभूषण जाधव को लेकर पाकिस्तान के दावों को तब धक्का लगा, जब उसी के अधिकारी ने कहा जाधव को ईरान से पकड़ा गया था| पाकिस्तान आईएसआई के पर्व अधिकारी अमजद शोएब ने माना कि जाधव को पाकिस्तान से नहीं बल्कि ईरान से पकड़ा गया था| बलूचिस्तान में जाधव कि गिरफ़्तारी फ़र्ज़ी तरीके से दिखाई गई है|

कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान की निकली हवा

कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान की निकली हवा

कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान के रिटायरड लेफ्टिनेंट जनरल के बयान से उसके जाधव पर किये गए दावों की हवा निकाल कर रख दी है| उन्होंने दवा किया है कि जाधव की गिरफ़्तारी बलूचिस्तान में दिखाना फ़र्ज़ी है| भारत इस बयान को आईसीजे में होने वाली अगली सुनवाई में पेश कर सकता है| जिससे पाकिस्तान की मुश्किलें और अधिक बढ़ गई है| अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट ने पहले ही पाकिस्तान को चेतावनी दी है| जब तक सुनवाई पूरी न हो जाधव को कुछ नहीं होना चाहिए|

पाकिस्तान ने जाधव पर लगाया था जासूसी का आरोप

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है कि पाकिस्तान के दावों की पोल खुली हो| पहले भी जर्मन के पूर्व राजदूत गुंटर मुलक ने भी यह माना था कि जाधव को ईरान से तालिबान ने अगवा किया था| फिर उसे आईएसआई को बेच दिया गया| पिछले साल नवाज शरीफ सरकार में विदेश मामलो के सलाहकार सरताज अज़ीज़ ने पाकिस्तानी संसद को बताया था. कि सरकार के पास जाधव के खिलाफ पक्के सबूत नहीं है| रावलपिंडी और इस्लामाबाद ने आरोप लगाया था कि जाधव ईरान में फर्जी तरीके से रह रहे थे| उनका असली मकसद कराची और बलूचिस्तान में आतंक फैलाना था|