Advertisement

Kya Griha pravesh karte samay pahla tyohar Holi ka nahin aana chahiye?

उत्तर: भारतीय ज्योतिष के अंग मुहूर्त्तशास्त्रकी परम्परागत पुस्तकें मुहूर्त्त चिन्तामणि मुहूर्त्त पारिजात, मुहूर्त्त गणपति, राजमार्तण्ड ज्योतिर्विदा भरणम् आदि अनेक पुस्तकों के अध्ययन करने पर ऐसा कोई नियम मुझे मिला नहीं। इन शास्त्रीय पुस्तकों में केवल वैसाख जेयष्ठ माद्य, फाल्गुन सबसे श्रेष्ठ और कार्तिक एवं मार्गशीर्ष दो ही मास मध्यम माने जाते हैं और जब माद्य फाल्गुन में सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त्त माना जाता है तो फिर पहला त्यौहार होली नहीं होना चाहिए यह बात तर्क संगत नहीं लगी।

शास्त्र में कहीं पर नहीं लिखा है कि पहला त्यौहार होली नहीं आना चाहिए, बल्कि कुछ लोगों द्वारा फैलाई गई अफवाह के अलावा कुछ नहीं है। इन अफवाहों से बचकर आप माघ फाल्गुन में मुहूर्त्त कर सकते हैं।

शास्त्र में (चौमासे) चतुर्मास में, कुम्भ व कर्क संक्रान्ति सदा वर्जित है उसमें भी पंडित वर्ग प्रवेश करवा देते हैं जो शास्त्रविरूद्ध हैं। शास्त्र में चौमासा, गुरू शुक्र अस्त योगिनी राहु शुद्धि, इन किसी में भी नहीं करना चाहिए। नूतन गृहप्रवेश का मतलब आप जिस घर, फलैट में पहली बार स्थायी रूप से रहने जा रहे हैं।

किराये के मकान में दोष नहीं लगता है। अतः आप लोगों से निवेदन है कि आप अपने नियमानुसार गृह प्रवेश करें, नहीं तो सुख की जगह दुख भोगना पड़ेगा।

Advertisement

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here