क्या हिंदु धर्म में 33 करोड़ देवी देवता हैं?

Kya Hindu dharm mein 33 karod devta hain?

भगवान, परमात्मा या ईश्वर एक है, फिर भी शास्त्रों के अनुसार देवी देवताओं के अनेक रूप बताए गए हैं। हिंदू धर्म के अनुसार 33 करोड़ देवी देवता हैं, ऐसा माना जाता है। प्राचीन काल से असंख्य देवी-देव्रतओं को पूजने की परंपराएं चलन में हैं। इस संबंध में सामान्यतः सभी की जिज्ञासा रहती है कि क्या वाकई में हिंदु धर्म में 33 करोड़ देवी देवता हैं।
दरअसल,वेद पुराणों के अनुसार 33 कोटि देवता बताए गए हैं। ‘कोटि’ शब्द संस्कृत का है, जिसके दो अर्थ हैं पहला करोड़ और दूसरा अर्थ है प्रकार जबकि वास्तव में 33 कोटि देवी देवता का अर्थ है 33 तरह के देवी देवता। 33 कोटि में आठ वसु, ग्यारह रूद्र, बारह आदित्य, इंद्र और प्रजापति शामिल है। जबकि कुछ विद्वानों के अनुसार इंद्र और प्रजापति के स्थान पर दो अश्विनी कुमार का नाम लिया जाता है।
आठ वसुओं में आप, ध्रुव, सोम, धर, अनिल, अनल, प्रत्युष, प्रभाष शामिल हैं।
ग्यारह रूद्र इस प्रकार हैं – मनु, मन्यु, शिव, महत, ऋतुध्वज, महिनस, उम्रतेरस, काल, वामदेव, भव और धृत-ध्वज।
बारह आदित्य इस प्रकार हैं – अंशुमन, अर्यमन, इंद्र, त्वष्टा, धातु पर्यन्य, पूशा, भग, मित्र, वरूण, वैवस्व्त और विष्णु। इन 33 देवताओं को ही पूजनीय माना गया है।