तीन आईजीआईएमएस के डॉक्टर और दो नर्स लालू की सेवा में, मरीज़ों का हाल बेहाल

पटना: बिहार स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव और राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने सोमवार को एक अन्य विवाद को जन्म दे दिया| बताया गया है कि एक सप्ताह से अधिक समय तक सरकारी अस्पताल के तीन डॉक्टरों को उनके घर नियुक्त किया गया था. क्योंकि उनके परिवार में कोई व्यक्ति बुखार से पीड़ित था। बाद में पता चला कि लालू की निगरानी और इलाज के लिए कर्मचारी तैनात किये गए थे।

तीन आईजीआईएमएस के डॉक्टर और दो नर्स लालू की सेवा में

इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ मैडिकल साईंसिस (आईजीआईएमएस) के चिकित्सा अधीक्षक के कार्यालय ने एक पत्र जारी किया है| जिसके तहत अस्पताल के सामान्य औषधि विभाग नरेश कुमार, अतिरिक्त चिकित्सा अधीक्षक कृष्ण गोपाल और उप चिकित्सा अधीक्षक अमन कुमार को 10 सर्कुलर रोड पर 31 मई से 8 जून तक से भेजा गया था। दो आईजीआईएमएस स्टाफ नर्सों, अनिल सैनी और विक्रम चरण उनके घर में भी नियुक्त किए गए| जहां राजद प्रमुख लालू प्रसाद और पत्नी राबड़ी देवी अपने बच्चों तेज प्रताप और उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव के साथ रहते हैं।

लालू प्रसाद यादव थे बीमार

एबीपी न्यूज और द टेलिग्राफ ने आईजीआईएमएस पत्र की एक प्रति खरीदी| इसमें पत्र में ऐसा नहीं बताया गया है कि डॉक्टर के आवास पर डॉक्टरों और नर्सों को क्यों नियुक्त किया गया। आईजीआईएमएस प्रशासन ने कहा है कि उन्हें स्वास्थ्य मंत्री से अनुरोध मिला है, जो आईजीआईएमएस के शासी निकाय के अध्यक्ष भी हैं। आईजीआईएमएस के मेडिकल सुपरिटेन्टेंट प्रभात कुमार सिन्हा ने कहा, हमें स्वास्थ्य मंत्री ने अनुरोध किया गया था कि वह अपने एक रिश्तेदार के यहाँ डॉक्टरों को नियुक्त करने है| जो उच्च बुखार से पीड़ित है| सिन्हा ने यह खुलासा करने से इनकार कर दिया कि मरीज कौन है। उन्होंने एबीपी न्यूज से कहा, एक अस्पताल सिर्फ तीन डॉक्टरों के साथ काम नहीं करता है।

उन्होंने पूछा गया तो उन्होंने कहा मरीज के नाम का खुलासा अनैतिक है। यहां तक ​​कि मोहम्मद अली जिन्ना के डॉक्टर ने अपने मरीज की पहचान प्रकट नहीं की जब उनका (जिन्ना) तपेदिक के लिए इलाज किया जा रहा था। हालांकि, सिन्हा ने दावा किया कि डॉक्टरों को 10 परिपत्र सड़क पर पूर्ण समय नहीं भेजा गया था और वे दिन में दो बार चेकिंग करने जाते थे। तेज प्रताप को उनके फोन पर कई कॉल के बावजूद संपर्क नहीं किया जा सका| और न ही संबंधित डॉक्टरों में से कोई भी मिडिया से बात कर रहा है| अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि हालांकि वहां डॉक्टरों की कोई कमी नहीं है|

तीन आईजीआईएमएस के डॉक्टर और दो नर्स लालू की सेवा में

सुशील मोदी ने कहा नितीश कुमार को तेज प्रताप से सवाल करना चाहिए

विपक्ष ने तेज प्रताप की आलोचना करने के लिए इस मुद्दे को उड़ा दिया और कहा कि यह समय है जब सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था में डॉक्टरों का संकट हुआ करता है| मंत्री ने निजी चिकित्सा के लिए तीन चिकित्सकों को हॉगिंग करने का कदम गरीबों के साथ विश्वासघात करने का ही मतलब है। लालू अस्पताल में पीड़ित रोगियों के बारे में चिंतित नहीं हैं। अस्वस्थ होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया जाना चाहिए। स्वास्थ्य की सुविधाएं पहले से ही राज्य में अच्छी स्थिति में नहीं हैं। मेरा मानना ​​है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को तेज प्रताप से सवाल करना चाहिए। वरिष्ठ भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने एबीपी न्यूज़ को एक टेलिफोनिक कवरेशन में कहा।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता नंद किशोर यादव ने कहा स्वास्थ्य मंत्री ने राज्य के गरीब लोगों को धोखा दिया है। हमने इन दिनों अख़बारों में विभिन्न रिपोर्टों को देखा है| जिसमें मोटरसाइकिल पर अपने रिश्तेदारों की मृत निकायों, एम्बुलेंस के साथ प्रदान नहीं की जाने वाली, और सरकारी अस्पतालों में दवा संकट के बारे में लोगों की खबरें शामिल हैं। यह सब साबित करता है कि स्वास्थ्य विभाग एक मुश्किल दौर में है| यह पहली बार नहीं है कि तेज प्रताप के पास विशेषाधिकार का दुरुपयोग होने का आरोप है। इस साल अप्रैल में उनकी पूरी तरह से सुसज्जित 108 एम्बुलेंस – एक वेंटिलेटर, ईसीजी मशीन, डीफिब्रिलेटर और पैरामेडिकल स्टाफ के साथ – उनके अधिकारों के स्पष्ट उल्लंघन के 10 परिपत्र रोड के बाहर तैनात थे। टेलिग्राफ ने 8 अप्रैल को इसके बारे में खबर देने के एक दिन बाद सरकार ने एम्बुलेंस वापस ले लिया था।