Advertisement

Parhit saris dharam nahin bhahi लोकोक्ति (मुहावरे) का हिन्दी में अर्थ , meaning in Hindi

लोकोक्ति (मुहावरा) – परहित सरिस धरम नहिं भाई

लोकोक्ति (मुहावरे) का हिन्दी में अर्थ – परोपकार से बढ़कर और कोई धर्म नहीं

परहित सरिस धरम नहिं भाई हिन्दी की एक प्रसिद्ध लोकोक्ति है जिसका प्रयोग अक्सर हिन्दी के लेख, निबंध आदि में किया जाता है।

परहित सरिस धरम नहिं भाई लोकोक्ति (मुहावरे) का वाक्य प्रयोग :-

लोकोक्ति का वाक्य प्रयोग – हमें सदैव दूसरों की मदद करनी चाहिए, क्योंकि परहित सरिस धरम नहिं भाई।

Advertisement

लोकोक्ति का वाक्य प्रयोग – प्रयोग – गरीबी मे भी उसने पडोसी की मदद की क्योंकि परहित सरिस धरम नहिं भाई।

लोकोक्ति का वाक्य प्रयोग –

हिन्दी की 1000 लोकोक्तियाँ – अर्थ, वाक्य प्रयोग 

कई बार लोग लोकोक्तियों (कहावतों) और मुहावरों को एक ही समझने की भूल कर बैठते हैं। मुहावरे और लोकोक्ति में अंतर को जानने के लिए इस लिंक पर जाएँ और मुहावरे और लोकोक्तियों का अंतर अच्छी प्रकार से समझें।

मुहावरे और लोकोक्ति में अंतर

Lokokti (Muhavra) – Parhit saris dharam nahin bhahi

Lokokti (Muhavre)ka Hindi mein arth – paropakar se barhakar aur koi dharm nahin

Parhit saris dharam nahin bhahi Lokokti ka Vakya prayog

Advertisement

Meaning of Lokokti Kahavat Parhit saris dharam nahin bhahi in English

परहित सरिस धरम नहिं भाई कहावत का हिन्दी में अर्थ और वाक्य प्रयोग

यहाँ पर हमने इस लोकोक्ति (कहावत) के बारे में निम्न बातें समझाई हैं:-

परहित सरिस धरम नहिं भाई in English ; परहित सरिस धरम नहिं भाई sentence ; परहित सरिस धरम नहिं भाई vakya prayog ; परहित सरिस धरम नहिं भाई का वाक्य प्रयोग ; परहित सरिस धरम नहिं भाई पर कहानी ; परहित सरिस धरम नहिं भाई मुहावरे का अर्थ क्या होगा ; परहित सरिस धरम नहिं भाई लोकोक्ति का अर्थ क्या होगा

विभिन्न कक्षाओं के लिए हिन्दी की कहावतों लोकोक्तियों की जानकारी के लिए इन लेखों को पढें:

Hindi Lokoktiyan for Class 5

Hindi Lokoktiyan for Class 6

Hindi Lokoktiyan for Class 7

Hindi Lokoktiyan for Class 8

Hindi Lokoktiyan for Class 9

Hindi Lokoktiyan for Class 10

10 प्रसिद्ध लोकोक्तियों का हिन्दी में अर्थ और वाक्य प्रयोग

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here