लखनऊ ट्रॉमा सेंटर में गरीबों के लिए 10,000 रुपये तक का उपचार हुआ फ्री

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में बीजेपी सरकार गरीबों के लिए लगातार योजनाए चला रही है| उत्तर प्रदेश में गरीब मरीजों के लिए एक बड़ी राहत में आपातकालीन चिकित्सा सहायता की आवश्यकता है| यहां राज्य के सबसे बड़े आघात केंद्र ने गुरुवार को कहा कि यह 10,000 रुपये तक के उपचार के लिए कोई शुल्क नहीं लगेगा।

अब गरीबो को नहीं भरना पड़ेगा इसके लिए कोई भी फॉर्म

किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) अपने गंभीर देखभाल इकाई में प्रवेश के पहले 24 घंटों में गरीबों के लिए नि: शुल्क इलाज करेगा- अधिकारी ने कहा। सैकड़ों रोगियों, मुख्य रूप से सड़क दुर्घटनाओं, गोलीबारी घावों, जाली हुई चोटों और अन्य दर्दनाक घटनाओं से प्रत्येक दिन केजीएमयू को रूबरू होना पड़ता हैं। इस लाभ को उठाने के लिए न तो रोगियों और न ही उनके अनुयायियों को किसी भी रूप में कोई भी राशि को भरना होगा| या विभिन्न काउंटरों के चक्कर भी नहीं काटने होंगे। ट्रॉमा सेंटर के डॉक्टरों को एक सरल हस्ताक्षर के साथ इलाज की लागत को समाप्त करने के लिए प्राधिकृत किया गया है। अब से ही ऐसे मरीजों के प्रवेश के तुरंत बाद, डॉक्टर उनके लिए एक फॉर्म भरेंगे, अपना पहचान पत्र लेंगे, उनके टेलीफोन नंबर, नाम और पते पर ध्यान देंगे और फीस छूट की अनुमति होगी।

लखनऊ ट्रॉमा सेंटर में गरीबों के लिए 10,000 रुपये तक का उपचार हुआ फ्री

केजीएमयू ट्रॉमा सेंटर के प्रभारी हैदर अब्बास ने कहा कि यह व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए शुरू की गई है कि गरीब मरीज़ों को पैसे की कमी के लिए उपचार से वंचित नहीं किया जाये। फीस छूट में गहन देखभाल इकाइयों (आईसीयू) और पहले 24-घंटे के लिए वेंटीलेटर शुल्क शामिल हैं। लगभग 200 मिलियन की आबादी वाले राज्य के अन्य प्रमुख आघात केंद्र वाराणसी में हैं| जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र हैं।

जब से उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार आई है| वो लगातार गरीबो के लिए कोई न कोई स्कीम चला रही है| कभी किसानो का कर्ज माफ़ करते है| तो कभी अन्नपूर्णा रसोई लेकर भूखो को खाना खिलाते है|