Advertisement

Maa-pita aur bachhon ke beech sanskaron ko lekar samvad- Samvad Lekhan

नकुल : माँ आपको पता है कल शर्मा अंकल क्या कह रहे थे ?

माँ : हाँ बेटा, क्या कह रहे थे ?

नकुल : वह बोल रहे थे कि तुम्हारे माता-पिता ने तुम्हे बहुत अच्छे संस्कार दिए हैं ।

पिता : हाँ, एक दिन शर्मा जी मुझे भी कह रहे थे कि आपके दोनों बच्चे पड़ोस के किसी भी बड़े को देखकर एकदम चरण स्पर्श करते हैं । यदि, जरुरत पड़े तो एकदम सहायता करने को तत्पर रहते हैं ।

Advertisement

माँ : देखा बच्चों, यदि संस्कार अच्छे हों तो वे आपको मान ही दिलाते हैं ।

पिता : क्यों नहीं । हमें भी बचपन से यही सिखाया गया है कि कोई भी बड़ा व्यक्ति हो तो उसे सादर प्रणाम करो । बड़े-बुजुर्गों के साथ आदर के साथ बात करो । यदि उन्हें सहायता की जरूरत हो तो उनकी सहायता करो ।

नकुल : जी पिताजी । एक दिन पांडे आंटी सब्जी का भारी थैला लेकर आ रहीं थीं और जैसे ही मैंने देखा, मैंने वह सब्जी का थैला उनके घर तक पहुंचा दिया । उन्होंने मुझे बहुत आशीर्वाद दिया ।

बेटा : बेटा, सुबह जल्दी उठ कर बड़ों को प्रणाम करना, समय पर पढ़ाई करना, घर के कार्यों में हाथ बंटाना, अपने काम दूसरों पर ना छोड़ना, ये जो छोटी-छोटी बातें बचपन से सिखाई जाती हैं बस यही संस्कार हैं । यही आपको जीवन में सफल भी बनाते हैं ।

यह संवाद लेखन विद्यार्थियों के लिए निम्न विषयों पर उपयोगी होगा – Samvad Lekhan, samvad lekhan meaning, samvad lekhan in hindi for class 8, samvad lekhan meaning in english, samvad lekhan in hindi for class 7, samvad lekhan format class 9, samvad lekhan marathi, shunya kachra samvad lekhan, 5 samvad lekhan, samvad lekhan in hindi for class 6, samvad lekhan in hindi for class 5, samvad lekhan in hindi for class 10

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here