महात्मा गांधी के बारे में 25 रोचक तथ्य जिनके बारे में आपको पता नहीं होगा। 17वें को पढ़कर तो आप आश्चर्य कर उठेंगे!

महात्मा गांधी की जयंती 2 अक्टूबर पर हम उनसे जुड़ी कुछ ऐसी रोचक जानकारी दे रहे हैं जो आप को शायद ही पता हो।  खासकर उनकी वकील के तौर पर कमाई जानने के बाद तो  आप दांतों तले ऊँगली दबा लेंगे !

1. महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) जन्म से बहादुर और बोल्ड नेता नहीं थे। बल्कि उन्होंने अपनी आत्मकथा में स्वयं लिखा है कि बचपन में वह इतने शर्मीले थे वह स्कूल से भाग जाते थे ताकि उन्हें किसी से बात न करनी पड़े।

2. गांधी जी ने दांडी मार्च (Dandi March) में ही पहली बार पदयात्रा नहीं की। वह जब इंग्लैंड में क़ानून की पढ़ाई कर रहे थे तब भी वह रोज़ ८ से १० किलोमीटर पैदल चला करते थे। पैदल चलने की इसी आदत के बल पर वह नमक सत्याग्रह (Namak Satyagrah) के दौरान २४१ किलोमीटर की दांडी पदयात्रा कर पाये।

3. एक बार गांधी जी को टिकट होने के बावजूद एक अंग्रेज और टिकट कलेक्टर ने “काला” होने के कारण ट्रेन से धक्का मार कर उतार दिया था।

4. सन 1931 की इंग्लैंड यात्रा के दौरान गांधी जी ने पहली बार रेडियो पर अमेरिका के लिए भाषण दिया। रेडियो पर उनके पहले शब्द थे “क्या मुझे इसके अंदर (माइक्रोफोन) बोलना पड़ेगा?” “Do I have to speak into this thing?”

5. एक बार गांधी जी का जूता चलती ट्रेन में से नीचे गिर गया। उन्होंने तुरंत अपना दुसरा जूता भी उतार कर ट्रेन फेंक दिया। पूछने पर उन्होंने कहा ” एक जूता न तो मेरे काम आएगा न ही उसके जिसे मेरा दूसरा जूता मिलेगा। कम से कम अब वह आदमी तो दोनों जूते पहन सकेगा जिसे मेरे दोनों जूते मिलेंगे”

6. गांधी जी समय के बड़े पाबन्द थे। उनके पास हमेशा एक “डॉलर” घडी रहती थी। उनकी हत्या से कुछ देर पहले ही वह इस बात को लेकर बहुत परेशान थे कि उन्हें प्रार्थना सभा में 10 मिनट की देर हो गई थी।

7. सन 1930 में उन्हें अमेरिका की प्रतिष्ठित टाइम मैगजीन ने “वर्ष का सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति” का पुरुस्कार दिया था।

8. गांधी जी सन 1988 में इंग्लैंड में पढ़ने गए। यह वही साल था जब इंग्लैंड में मशहूर सीरियल हत्यारे “जैक द रिपर” ने दहशत फैला रखी थी।

9. गांधी जी प्रसिद्ध रूसी लेखक लियो टॉल्स्टोय के मित्र थे और उनके साथ हमेशा पत्र-व्यवहार करते रहते थे।

10. जिस वाहन में 1997 में मदर टेरेसा को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया था वही वाहन सन 1948 में गांधी जी की अंतिम यात्रा के लिए इस्तेमाल किया गया था।

11. गांधी जी की आत्मकथा “सत्य के साथ मेरे प्रयोग (my experiments with truth)”, जो 1927 में प्रकाशित हुई थी, को हार्पर कोलिन्स ने उन्नीसवीं सदी की 100 सबसे प्रमुख आध्यात्मिक पुस्तकों में एक घोषित किया।

12. गांधी जी को 1948 में नोबल पुरुष्कार के लिए चुना गया था किन्तु पुरूस्कार मिलने से पहले ही उनकी ह्त्या हो गई। फलस्वरूप नोबल कमिटी ने पुरुस्कार उस साल किसी को भी नहीं दिया।

13. 1999 में गांधी जी को टाइम्स मैगजीन द्वारा आइंस्टीन के बाद उन्नीसवीं सदी का दूसरा सबसे प्रभावशाली व्यक्ति चुना गया।

14. गांधी जी अपने नकली दांत अपनी धोती में बाँध कर रखते थे। वह उन्हें केवल खाना खाते समय ही लगाया करते थे।

15. महात्मा गांधी आइरिश एसेंट में इंग्लिश बोलते थे क्यूंकि उनके पहले अंग्रेजी शिक्षक एक आइरिशमैन थे।

16. गांधी जी ने जब अपनी क़ानून की पढ़ाई ख़त्म कर इंग्लैंड में वकालत शुरू की तो वह पूरी तरह असफल साबित हुए। यहां तक कि अपने पहले केस में उनकी टांगें जिरह करते समय काम्पने लगीं थी और वह पूरी बहस किये बिना ही बैठ गए थे और केस हार गए।

17. लेकिन दक्षिण अफ्रीका में वह बहुत सफल वकील बने और उनकी आमदनी दक्षिण अफ्रीका में 15000 डॉलर सालाना तक हो गई थी। जरा सोचिये, 99% भारतीयों की सालाना आय आज भी इससे कम है !

18. महात्मा गांधी अपने जीवन में कभी अमेरिका नहीं गए।

19. महात्मा गांधी अपने जीवन में कभी भी एयर प्लेन में नहीं बैठे।

20. महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा गुजराती में लिखी थी।

21. महात्मा गांधी को महात्मा की उपाधि रवीन्द्र नाथ टैगोर ने दी थी और रवीन्द्र नाथ टैगोर को गुरुदेव की उपाधि गांधी जी ने दी थी।

22. महात्मा गांधी को “राष्ट्रपिता” (rashtrapita) की उपाधि सुभाष चन्द्र बोस ने दी थी।

23. महात्मा गांधी ने स्वाधीनता आन्दोलनों में अपने जीवन के कुल ६ साल और ५ महीने जेल में बिताये।

24. संयुक्त राष्ट्र ने गांधी जी के जन्म दिन 2 अक्टूबर को विश्व अहिंसा दिवस (world non-violence day) घोषित किया है।

25. गांधी जी स्वदेशी के बहुत कट्टर समर्थक थे किन्तु उनका पहला डाक टिकट स्विट्जरलैंड में छपवाया गया था।