मन की बात – नरेंद्र मोदी ने किया भारत को दुनिया का स्टार्ट अप कैपिटल बनाने का आव्हान

Advertisement

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 15वी बार देश के साथ मन की बात द्वारा अपने विचार साझा किये। उनके मन की बात के मुख्य बिंदु आप के लिए प्रस्तुत हैं:

उन्होंने देश से आव्हान किया कि क्या भारत दुनिया का स्टार्ट अप कैपिटल (START UP CAPITAL) बन सकता है? उन्होंने बताया कि 16 जनवरी को भारत सरकार स्टार्ट अप इंडिया स्टैंड अप इंडिया (START UP INDIA STAND UP INDIA) अभियान की शुरुआत करेगी। इसका पूरा एक्शन प्लान आईआईटी (IIT) और IIM (आईआईएम) जैसे संस्थानों जो इंटरनेट कनेक्टिविटी से जुड़े हैं, वहां पर युवाओं के साथ शेयर किया जायेगा। नरेंद्र मोदी एप पर लोग सीधे मुझे स्टार्ट अप इंडिया स्टैंड अप इंडिया अभियान के बारे में अपने विचार भेज सकते हैं।

Advertisement

मन की बात नरेंद्र मोदी भारत स्टार्ट अप कैपिटलविकलांगों को प्राप्त विशेष क्षमताओं का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि शारीरिक रूप से अक्षम लोगों के लिए दिव्यांग (Divyang) शब्द का प्रयोग करें। दिव्यांग लोगों को हर जगह पर अलग से व्यवस्था जरूरी है जैसे कि रेलवे स्टेशन, ऑफिस, आदि। इसके लिए प्रयास होना चाहिए।

Advertisement

उन्होंने नए साल पर देशवासियों को शान्ति के लिए शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा किहम चाहते हैं कि नए साल पर दुनिया आतंक से मुक्त हो।

Advertisement
youtube shorts kya hai

उन्होंने “पहल” योजना (PAHAL) का विशेष रूप से उल्लेख किया। डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर योजना “पहल” (Direct Transfer Benefit Scheme – PAHAL) को गिनीज बुक ऑफ़ रिकार्ड्स में जगह मिली। 35-40 योजनाओं का पैसा डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर योजना के तहत दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लोगों के पास योजनाओं का पैसा हकदारों के पास सीधे पहुँचना चाहिए, ये सरकार की प्राथमिकता है। मजदूरों के पास मनरेगा का पैसा, सब्सिडी का पैसा, विद्यार्थियों के पास छात्रवृत्ति का पैसा अब डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर योजना के तहत सीधा उनके अकाउंट में दिया जा रहा है। अब तक करीब 40 हजार करोड़ रुपये “पहल” योजना के तहत हकदारों को दिए जा चुके हैं।

प्रधान मंत्री मोदी ने लोगों से, खास कर युवाओं से ‘कर्त्तव्य” (Karttavya) पर अपने लेख, निबंध, सुझाव आदि नरेंद्र मोदी एप पर भेजने को भी कहा।

Advertisement

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता से 26 जनवरी गणतंत्र दिवस पर जन-जन को तंत्र से जोड़ने का आव्हान किया।

Advertisement