मनचला मन चला तेरी और में कौन सा अलंकार है?

मनचला मन चला तेरी और में कौन सा अलंकार है?

manchala man chala teri aur mein kaun sa alankar hai

मनचला मन चला तेरी और

प्रस्तुत पद में यमक अलंकार है।जब समान शब्दों की आवृति हो और अर्थ अलग हो तो वहाँ यमक अलंकार होता है।

प्रस्तुत पंक्ति में यमक अलंकार का भेद:

शब्दों के लिखावटमें परिवर्तन के कारण इसमें सभंग पद अलंकार है।

यमक अलंकार का अन्य उदाहरण:

आप यमक अलंकार को अच्छी तरह से समझ सकें इसलिए यमक अलंकार के कुछ अन्य उदाहरण निम्नलिखित हैं:

‘’हरि हरि रूप दियो नारद को। ‘’

“ कनक कनक तें सो गुना मादकता अधिकाई “ इसमें कनक के दो अर्थ हैं – धतूरा और स्वर्ण। अतः; इसमें यमक अलंकार है।

काव्य पंक्ति में अन्य अलंकार –

इसमें मन का मानवीकरण किया गया है इसलिए इसमें मानवीकरण अलंकार है।

अलंकार के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर जाएँ:

अलंकार – परिभाषा, भेद एवं उदाहरण 

[display-posts category_id=”2993″  wrapper=”div”
wrapper_class=”my-grid-layout”  posts_per_page=”5″]

Leave a Reply