दिल्ली से सटे गांव दादरी में हुए शर्मनाक हत्याकांड में अख़लाक़ के घर से मिले मांस की वेटनरी रिपोर्ट वेटनरी विभाग ने सार्वजानिक कर दी है! इस रिपोर्ट ने अनुसार जो मांस अख़लाक़ के फ्रीज़ से बरामद हुआ था वह गौमांस नहीं बल्कि मटन (बकरे का मांस) था!

dadri case

हालांकि अभी फोरसिंक जांच की रिपोर्ट नहीं आई है लेकिन वेटनरी विभाग की जो रिपोर्ट मिली है उससे यह पता चला है कि मांस का टुकड़ा बीफ का नहीं बल्कि बकरे का था। गौतमबुद्ध नगर के मुख्य वेटनरी आॅफिसर एस.के. द्विवेदी का कहना है कि पुलिस ने मीट के टुकड़ों की जांच करने के लिए कहा था जिसमें यह बकरे का मीट प्रतीत होता है। द्विवेदी ने भी कहा कि जब तक फोरसिंक रिपोर्ट नहीं आ जाती तब तक सही तथ्य का पता नहीं चलेगा।

गौरतलब है कि इस घटना ने देश में सियासी हलचल मचा दिया था।बिहार चुनाव से पहले हुए इस घटने की आंच देश भर ने महसूस किया! अखलाक की जहां पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी वहीं उसके बेटे को भी अधमरा कर दिया गया था। जिसका लंबे समय तक इलाज चलता रहा।

इस घटना के बाद पुलिस ने आठ लोगों को आरोपी भी बनाया था जिसकी वजह से गांव में तनाव बना हुआ था। प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अखलाक के परिवार को आर्थिक सहायता भी दी थी। हालाँकि परिवार को अंततः गाँव छोड़ कर जाना पड़ गया था!

दो महीने पहले ही आई थी रिपोर्ट, अखिलेश सरकार ने जानबूझ कर की देरी

फॉरेन लैब में कार्यरत रहे डॉक्‍टर राजेश दीक्षित ने बताया कि 31 अक्‍टूबर को रिटायर होने से पहले ही उन्‍होंने मीट के उस टुकड़े की जांच करके रिपोर्ट तैयार कर दी थी, लेकिन वह फाइल दो महीने तक ऑफिस में ही धूम खाती रही।

उत्‍तर प्रदेश सरकार की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि मोहम्‍मद अखलाक के घर में फ्रिज में जो मांस रखा था वह बीफ नहीं, मटन था। दादरी के अखलाक की हत्‍या इस अफवाह के बाद कर दी गई थी कि उसने बछड़े का मांस खाया और घर में रखा। उसके बेटे को भी भीड़ ने बुरी तरह घायल कर दिया था। यह घटना 29 सितंबर की है। भीड़ ने अखलाक को उसके घर से घसीट कर इतना पीटा था कि उसकी मौत हो गई थी।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
आमिर
नमस्कार दोस्तों! मेरा नाम आमिर नसीर है और मैं मुख्यतः देश विदेश की राजनीति तथा आपके मनोरंजन से जुड़े मुद्दों पर लिखता हूँ, आप मुझसे मेरे फेसबुक प्रोफाइल पर जुड़ कर अपने सुझाव दे सकते हैं! धन्यवाद!