मिरग शब्द का तत्सम रूप क्या है?mirag ka Tatsam

मिरग का तत्सम क्या है? mirag ka tatsam roop

मिरग का तत्सम क्या है?

मिरग शब्द का तत्सम रूप मृग है।

mirag tatsam shabd kya hai?

mirag ka tatsam roop mrig hai

मृग का तद्भव क्या है?

मृग का तद्भव रूप मिरग है।

तत्सम दो शब्दों से मिलकर बना है – तत + सम, जिसका अर्थ होता है – उसके (संस्कृत के) समान। जिन संस्कृत के मूल शब्दों को बिना किसी परिवर्तन के हिन्दी में ज्यों का त्यों प्रयोग किया जाता है, उन्हें तत्सम शब्द कहते हैं। जैसे – सूर्य, वर्षा, नयन, धरित्रि आदि।

संस्कृत के मूल शब्दों में समय के साथ कुछ परिवर्तन आ गया है, ऐसे शब्दों को तद्भव शब्द कहते हैं, जैसे – सूरज, बारिश, नैन, धरती आदि।

Tatsam Tadbhav Shabd for Class 5
Tatsam Tadbhav Shabd for Class 6
Tatsam Tadbhav Shabd for Class 7
Tatsam Tadbhav Shabd for Class 8
Tatsam Tadbhav Shabd for Class 9
Tatsam Tadbhav Shabd for Class 10
तत्सम और तद्भव शब्दों के बारे में विस्तार से पढ़ने के लिए इस लिंक पर जाएँ:-

तत्सम – तद्भव शब्द : उदाहरण सहित व्याख्या 

परीक्षा में तत्सम और तद्भव शब्द पर अनेकों प्रकार से प्रश्न पूछे जा सकते हैं। जैसे –

मिरग का तत्सम क्या है? मिरग का तत्सम शब्द मिरग का तत्सम शब्द चुनिए मिरग शब्द का तत्सम रूप क्या होता है? मिरग का तत्सम रूप बताइए mirag ka tatsam roop mirag ka tatsam shabd kya hai?

परीक्षाओं में अक्सर पूछे जाने वाले 10 IMPORTANT तत्सम तद्भव शब्द के उदाहरण: