Advertisements

मोदी ने नीतीश को दिया झटका, जेडीयू की हालत माया मिली न राम जैसी

बहुप्रतीक्षित मोदी मंत्रीमंडल के तीसरे और शायद आखिरी फेरबदल में जहाँ 9 नए मंत्री बनाये गए वहीँ कुछ का दर्जा बढ़ा कर कैबिनेट रैंक का कर दिया गया. कुछ मंत्री तो अनुभव के आधार पर बिलकुल नए हैं और सांसद भी पहली बार ही बने हैं. लेकिन इस सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात रही मंत्रिमंडल में सहयोगी दलों शिवसेना और जेडीयू को कोई प्रतिनिधित्व नहीं मिलना.

Advertisements

modi nitish jhatka ministerial expansionकयास लगाए जा रहे थे कि हाल ही में कांग्रेस और लालू की जदयू का दामन छोड़कर एनडीए में शामिल हुई नीतीश कुमार की जेडीयू के कोटे से दो मंत्रियों को मोदी के नए फेरबदल में मंत्री बनने का मौका मिल सकता है लेकिन शनिवार को जब नए मंत्रियों के नामों की घोषणा हुई तो उसमें भाजपा के अलावा किसी और सहयोगी दल के किसी एमपी का नाम नहीं था.

खबर यह भी है कि शायद जेडीयू के कोटे से दो की जगह एक ही मंत्री बनाने का ऑफर दिया गया था जिस पर नीतीश कुमार राजी नहीं हुए.

हाल ही में नीतीश कुमार की जेडीयू ने जेडीयू-जदयू-कांग्रेस के महागठबंधन से बाहर निकल कर एनडीए का हाथ थाम लिया था. उन्होंने अपना इस्तीफ़ा भी दे दिया था जिसके बाद भाजपा से आनन-फानन में मिले समर्थन के बदले नीतीश कुमार कांग्रेस और जदयू के खिलाफ विश्वासमत जीतने में सफल रहे और फिर से मुख्यमंत्री बने.

Advertisements

लेकिन सूत्र बताते हैं कि भाजपा और जेडीयू में अंदरखाने सब कुछ ठीक नहीं है. नीतीश कुमार ने मोदी का नेतृत्व तो स्वीकार कर लिया है लेकिन भीतर-भीतर वे इसे पचा नहीं पा रहे हैं. यही नहीं मोदी और नीतीश कुमार के बीच पैदा हुई कडवाहट भी समाप्त नहीं हो पा रही है.

अपुष्ट ख़बरों के अनुसार नीतीशकुमार बिहार में अपनी सरकार के लिए भाजपा पर निर्भर नहीं रहना चाहते इसीलिए वे बिहार कोंग्रेस के विधायकों को चारा डाल रहे हैं. नीतीश कुमार चाहते हैं कि बिहार में कांग्रेस पार्टी का विघटन हो जाए और कोंग्रेसी विधायक जेडीयू ज्वाइन कर लें ताकि जेडीयू का अपने बलबूते पर सदन में बहुमत हो जाये.

Advertisements

इसी बीच मोदी के मंत्रीमंडल विस्तार पर लालू यादव ने जोरदार चुटी ली. लालू ने कहा कि जिस प्रकार पेड़ से गिरे हुए बन्दर को बाकी बन्दर अपने समूह से निकाल देते हैं कुछ वैसा हे हाल नीतीश कुमार का हो गया है. एनडीए से एक बार बाहर आ चुके नीतीश कुमार को दुबारा एनडीए में जाने पर भी भाजपा को उनपर भरोसा नहीं हो रहा है. यही कारण है कि वे फड़फड़ा रहे हैं और कोंग्रेसी विधायकों पर डोरे डाल रहे हैं.

लालू ने कहा कि मंत्री पद मिलना तो दूर की बात है नीतीश कुमार को तो शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित तक नहीं किया गया.

लालू ने चुटकी लेते हुए कहा कि “बीजेपी ने नीतूश कुमार को ठेंगा दिखा दिया है. जो अपने लोगों को छोड़ता है उसे दूसरे लोग भी नहीं अपनाते हैं. नीतीश कुमार दो नाव की सवारी कर रहे हैं. इनका भाग्य यही है कि दो नाव पर चलना और टांग फट कर मरना. लालू ने कहा कि यहां ये असली खेल चल रहा है (कांग्रेस के विधायकों का दलबदल का प्रयास). नीतीश कुमार कभी भी पलट जाएगा. ये पलटू है. ये अपना बहुमत का जुगाड़ करने में लगे हुए हैं.”