आपसी सहमति से उतार दिया गया मंदिर और मस्जिद का लाउडस्पीकर

जहां आए दिन देश में मंदिर और मस्जिद को ले कर सांप्रदायिक दंगे और झगडे देखने को मिलते हैं वही उत्तर प्रदेश के मोरादाबाद के इस गांव में हिन्दू और मुस्लिम समुदायों के बीच आपसी सौहार्द्य की एक अद्भुत मिसाल इस गांव में देखने को मिली
जहां लोगों ने आपसी सहमति से मंदिर तथा मस्जिद दोनों से लाउडस्पीकर उतार दिया ताकि दूसरों को परेशानी न हो.

लोगों ने न सिर्फ लाउड स्पीकर उतरा बल्कि यह फैसला भी लिया कि आने वाले समय में किसी भी धार्मिक कार्य में लाउड स्पीकर का प्रयोग नहीं किया जाएगा. ये फैसला दोनों समुदायों की सहमति से ख़ुशी ख़ुशी लिया गया.

गाँव वालों ने इस फैसले को बाकायदा लिखित तौर पर थाने में पेश किया है ताकि भविष्य में आपसी विवाद न हो और भाईचारा बना रहे.

गांव के हेमंत शर्मा ने मीडिया को बताया- मंदिर पर 2 लाउडस्पीकर लगे हुए थे जबकि मस्जिद पर 7 लगे थे. जिसको ले कर विवाद की शुरुआत हुई. हिन्दू समुदाय ने कहा कि मस्जिद पर भी 2 लाउडस्पीकर लगा लो और बाकि उतार दो, परन्तु बात नहीं बनी.

फिर मामले को गांव की पंचायत में ले जाया जहां पर यह फैसला लिया गया कि गांव में किसी भी धार्मिक आयोजन पर लाउडस्पीकर का प्रयोग नहीं होगा तथा मंदिर और मस्जिद दोनों से लाउड स्पीकर उतार दिए जाएंगे.

इस फैसले की सराहना प्रशासन ने भी की है तथा इससे आपसी भाईचारा बढ़ाने वाले फैसले के रूप में देखा जा रहा है.