मुंबई धारावाहिक बम धमाकों का दोषी मुस्तफा डोसा की जे जे अस्पताल के जेल वार्ड में हुई मृत्यु

Advertisement

नई दिल्ली: मुंबई के सीरियल बम धमाकों के मामले में दोषी मुस्तफा डोसा को बुधवार की दोपहर को छाती के दर्द की शिकायत करने के बाद जे जे अस्पताल में भर्ती कराया। हृदय की बीमारी से उसकी मृत्यु हो गयी|

मुंबई धारावाहिक बम धमाकों का दोषी मुस्तफा डोसा की जे जे अस्पताल के जेल वार्ड में हुई मृत्यु

अस्पताल के डीन टीपी लहाने ने पीटीआई को बताया, डोसा को अस्पताल के जेल वार्ड में सुबह 3 बजे भर्ती कराया गया था। डोसा (आर्थर रोड जेल में दर्ज) ने छाती में दर्द की शिकायत की और उच्च रक्तचाप, मधुमेह और संक्रमण भी अनियंत्रित था।

Advertisement

1993 बम धमाकों का मुख्य षड्यंत्रकारी था मुस्तफा डोसा

कल सीबीआई ने डोसा के लिए मौत की सज़ा की मांग की थी और यह तर्क दिया था कि बम धमाकों में उसकी भूमिका “फांसी पर लटका” याकूब मेमन की तुलना में “अधिक गंभीर” थी| सीबीआई ने कहा कि डॉस साजिश के पीछे “मस्तिष्क” में से एक था और अपराध के कमीशन के प्रति उसकी जिम्मेदारी उच्चतम थी।

विस्फोटों के मामले में मुकदमे के दूसरे चरण में अदालत ने 16 जून को दोषियों, षड्यंत्र और टाडा के खंड के आरोपों के तहत डोसा और प्रत्यर्पित गैंगस्टर अबू सलेम सहित पांच अभियुक्तों को दोषी ठहराया था| जबकि छठे आरोपी रियाज सिद्दीकी को केवल टाडा अधिनियम के तहत दोषी ठहराया गया था।

मार्च 12, 1993 को शहर में सिलसिलेवार विस्फोटों में 257 लोगों की मौत हो गई थी। अदालत ने सभी आरोपों के एक और आरोपी अब्दुल कय्यूम को बरी कर दिया था। मुख्य मुकदमे के समापन के समय सात अभियुक्त अबू सलेम, मुस्तफा डोसा, करीमुल्ला खान, फिरोज़ अब्दुल रशीद खान, रियाज सिद्दीकी, ताहिर मर्चेंट और अब्दुल कय्यूम का परीक्षण मुख्य मामले से अलग हो गया था। दोषियों को सजा देने का अदालत ने अपना अधिकार सुरक्षित रखा हुआ है|

Advertisement