Advertisements

नांद में कुत्ता – पंचतंत्र की कहानियाँ

किसी गांव में एक कुत्ता रहता था। वह झगड़ालू स्वभाव का था। एक दिन की घटना है कि वह एक अस्तबल में घुस गया और चारे की एक नांद पर चढ़ कर बैठ गया। उसे वह स्थान इतना पंसद आया कि वह दिन भर वहीं लेटा रहा। उधर, जब घोड़ों को भूख लगी तो वे चारा खाने के लिए नांद की ओर आए। मगर वह कुत्ता किसी घोड़े को नांद के पास फटकने ही नहीं देता था। वह हरेक घोड़े पर भौंकता हुआ दौड़ता। बेचारे घोड़े अपना भोजन नहीं कर पर रहे थे। चूंकि चारा कुत्ते का भी भोजन नहीं था, इसलिए हुआ यह कि कुत्ता न तो खुद भोजन खा रहा था और न ही किसी घोड़े को खाने दे रहा था।

नांद में कुत्ता - पंचतंत्र की कहानियाँ

Advertisements

नतीजा यह हुआ कि स्वयं वह तथा घोड़े भूखे ही रह गए।

शिक्षा –  किसी के हक पर जबरदस्ती कब्जा न करो।

Advertisements
Advertisements
Advertisements