दिल्ली: आज नई दिल्ली पहुंचे नेपाल के प्रधान मंत्री ने भारत-नेपाल के रिश्तों के नई ऊंचाइयों तक पहुँचाने की आशाएं जताएँ। भारत के छह दिवसीय दौरे पर आये नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. ओली ने कहा की उनके भारत आने का सबसे मुख्य मकसद पिछले कुछ महीनों में भारत-नेपाल के संबंधों में आई गलतफहमियों को दूर करना है।

nepal PM KP Oli on India visitनेपाली प्रधान मंत्री के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को कहा कि दोनों देश यह भली भांति समझते हैं कि नेपाल की स्थिरता भारत की सुरक्षा से जुड़ी हुई है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बात पर दोनों देशों में सहमति बनी है कि बढ़ते अतिवाद से भारत और नेपाल को मिलकर निपटने की जरूरत है।

सबसे मुख्य बात की और मोदी ने ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि “हम दोनों देशों के बीच खुली सीमाओं का इस्तेमाल आतंकवादियों व अपराधियों को करने की अनुमति नहीं देंगे। इस संदर्भ में दोनों देशों की सुरक्षा एजेंसियां आपस में सहयोग करेंगी।”

प्रधान मंत्री मोदी ने कहा कि भारत और नेपाल दोनों ही देशों के विकास और सम्पन्नता के लिए दोनों देशों में शांति, स्थिरता होना आवश्यक है । साथ ही उन्होंने दोनों देशों में पारस्परिक विश्वास का माहौल बनाये रखने की जरूरत पर जोर दिया।

नरेंद्र मोदी ने नेपाल को आश्वस्त करते हुए कहा कि भारत और नेपाल के मध्य सैकड़ों वर्षों की साझा सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक विरासत रही है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार नेपाल के आर्थिक विकास की पक्षधर है। उन्होंने नेपाली प्रधानमंत्री केपी ओली के नेतृत्व में नेपाल के प्रगति की नई ऊंचाइयों को छूने को लेकर विश्वास व्यक्त किया।

यह भी पढ़िए  अब मोदी सरकार ने भी माना, काले धन पर बुरी तरह फेल रही यह स्कीम

आज बिहार के मुजफ्फरपुर तथा नेपाल के धाकेबार के बीच बिजली पारेषण लाइन का यहां वीडियो-कांफ्रेंसिंग के जरिए मोदी और ओली ने संयुक्त रूप से उद्घाटन किया। इस अवसर पर नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम संयुक्त तौर पर 7,000 मेगावाट क्षमता की पनबिजली परियोजना पर काम कर रहे हैं और इस परियोजना के जल्द पूरा होने से नेपाल की समृद्धि का मार्ग प्रशस्त होगा।

आज भारत और नेपाल के मध्य कई व्यापारिक समझौतों पर हस्ताक्षर किये गए जिनमें दोनों देशों के बीच के ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर और कई हाईवे बनाए जाना शामिल है । साथ ही भारत ने नेपाल को अगले दो साल में 80 मेगावाट बिजली देने का आश्वासन दिया है । दोनों के देशों के मध्य कला और संस्कृति के क्षेत्र में भी करार हुए हैं।

आज नेपाल के प्रधान मंत्री केपी ओली ने सांसे पहले राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की ।

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
सरिता महर
हेल्लो दोस्तों! मेरा नाम सरिता महर है और मैं रिलेशनशिप तथा रोचक तथ्यों पर आप सब के लिए मजेदार लेख लिखती हूँ. कृपया अपने सुझाव मुझे हिंदी वार्ता के माध्यम से भेजें. अच्छे लेखों को दिल खोल कर शेयर करना मत भूलना