सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी को विनियमित किया जाएगा, प्रतिबंधित नहीं: भारत सरकार

Advertisements

No ban on Private Cryptocurrency in India – India Government

प्रस्तावित क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) बिल पर सरकार द्वारा परिचालित एक कैबिनेट नोट ने निजी क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) पर प्रतिबंध लगाने के बजाय इसे विनियमित करने का सुझाव दिया है।

नोट में यह भी कहा गया है कि भारत में क्रिप्टो (Crypto) को कानूनी मुद्रा के रूप में मान्यता नहीं दी जाएगी। कानून में क्रिप्टोकरेंसी को क्रिप्टोएसेट (Crypto Assets) के रूप में माना गया है।

Advertisements

No ban on Private Cryptocurrency in India - India Government

क्रिप्टोकरंसी को मौजूदा क्रिप्टो (Crypto) एक्सचेंज प्लेटफॉर्म (Exchange platform) से नियंत्रित जाएगा जिसे भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी (SEBI) ) द्वारा नियंत्रित किया जाएगा। क्रिप्टोकरंसी रखने वालों को इसे घोषित करने और क्रिप्टो (Crypto) एक्सचेंज प्लेटफॉर्म के तहत लाने के लिए एक कट-ऑफ तारीख निर्धारित की जाएगी – जिसे बाजार नियामक द्वारा विनियमित किया जाएगा।

Advertisements

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा प्रस्तावित आभासी मुद्रा को नए क्रिप्टो (Crypto) बिल के साथ नहीं जोड़ा गया है। हालांकि, केंद्रीय बैंक क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) से संबंधित मुद्दों को नियंत्रित करेगा।

विनिमय प्रावधानों का उल्लंघन करने वाले सभी को डेढ़ साल तक के आपराधिक कारावास से दंडित किया जाएगा। नियामक द्वारा ₹5 करोड़ से ₹20 करोड़ तक का जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

आतंकवाद से संबंधित गतिविधियों के लिए इन संपत्तियों का उपयोग करने वालों के लिए एक निवारक के रूप में, धन शोधन निवारण अधिनियम Prevention of Money Laundering Act (PMLA) के प्रावधान उपयुक्त संशोधनों के साथ लागू होंगे।

इस हफ्ते की शुरुआत में, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी के गलत हाथों में जाने के जोखिम पर नजर रखी जा रही है। मंत्री ने यह भी कहा कि डिजिटल मुद्राओं के विज्ञापनों को रोकने का कोई निर्णय नहीं है।

सुश्री सीतारमण ने कहा कि सरकार के पास देश में बिटकॉइन BITCOIN को मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं है और सरकार बिटकॉइन लेनदेन पर डेटा एकत्र नहीं करती है।

सरकार ने कहा था कि उसे आरबीआई RBI से ‘बैंक नोट’ की परिभाषा के तहत डिजिटल मुद्रा को शामिल करने का प्रस्ताव मिला है।

अक्टूबर में आरबीआई ने सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) का प्रस्ताव पेश किया था। सीबीडीसी – डिजिटल या वर्चुअल करेंसी – फिएट मुद्राओं (FIAT currency) का डिजिटल संस्करण है, उदाहरण के लिए, भारत में रुपया एक फिएट मुद्रा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.