पीएसी की बैठक अरविंद केजरीवाल के आवास पर हुई शुरू, कुमार विश्वास पर फैसले की उम्मीद

दिल्ली के सत्तारूढ़ आप पार्टी में एक संभावित विभाजन की अफवाहों के बीच अरविंद केजरीवाल के आवास पर बैठक शुरू हो गई है| वहां राजनीतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक चल रही है| जिसमे पार्टी के वरिष्ठ नेता यह तय करेंगे कि कवि-राजनीतिज्ञ कुमार विश्वास पार्टी में रहेंगे या छोड़ देंगे।

मीटिंग में आप संयोजक अरविंद केजरीवाल सहित वरिष्ठ नेता मौजूद

रिपोर्टों के मुताबिक पीएसी बैठक अरविंद केजरीवाल के आवास पर हो रही है| जिसमें कुमार विश्वास, अतीशि मार्लेना और आशुतोष सहित शीर्ष नेता शामिल हैं। कुमार विश्वास आप के संस्थापक सदस्यों में से एक है| उनपर आरोप है कि वो अरविंद केजरीवाल को पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में बदलने की इच्छा रखते हैं। कुमार ने कल दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के आसपास के लोगो द्वारा उन पर बढ़ते हुए हमलों से पार्टी छोड़ने की धमकी दी थी।

आप संयोजक अरविन्द केजरीवाल सहित वरिष्ठ नेता मौजूद

विस्वास ने अपने नेताओं पर उनके खिलाफ षड्यंत्र करने का आरोप लगाया और कहा कि वह अपने सिद्धांतों के साथ समझौता नहीं कर पाएंगे|उन्होंने कहा जल्द ही अपने भविष्य के लिए वो कोई फैसला लेंगे। मुझे पता है कि मुझे लक्षित किया जाएगा। मेरी छवि खराब करने के प्रयास किए जाएंगे। लेकिन उन षड्यंत्रकारियों को बताओ कि मैं आपको ऐसा करने की अनुमति नहीं देता हूं – कुमार विश्वास।

कुमार विश्वास नहीं चाहते आप संयोजक बनना

उन्होंने स्पष्ट रूप से इनकार किया कि वह आप के संयोजक बनना चाहते हैं। उन्होंने कहा, मैंने पहले ही 10 बार और अरविंद (केजरीवाल) और मनीष (सिसोदिया) और पार्टी को भी कहा है कि मैं मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री या संयोजक नहीं बनना चाहता हूं। 46 वर्षीय कुमार पर आम आदमी पार्टी ने कल कहा था कि वह जल्द ही एक निर्णय लेंगे। मंगलवार की रात अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया के साथ विश्वास से मिले| जो आज घोषणा कर सकते हैं कि क्या वे आम आदमी पार्टी में रहेंगे या छोड़ेंगे।

केजरीवाल ने अपने गाजियाबाद वाले घर में कल मुलाकात के बाद कहा, कुमार विश्वास हमारे आंदोलन के निहित भाग हैं| वह परेशान है, लेकिन मुझे उम्मीद है कि हम उसे मना लेंगे। कुछ समय पहले जब उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की थी| तब से भाजपा के लिए विश्वास की बढ़ती निकटता के बारे में अफवाहें चली थी। उन्होंने पहले भाजपा में शामिल होने के लिए किसी भी योजना को अस्वीकार कर दिया था। मंगलवार को भी, उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की प्रशंसा की, उन्होंने कहा कि इसके लिए माफी मांगने की आवश्यकता नहीं है।

आप संयोजक अरविन्द केजरीवाल सहित वरिष्ठ नेता मौजूद

अमानतुल्लाह ने कुमार विश्वास पर आरोप लगाया था कि वो अरविन्द केजरीवाल को आप संयोजक के पद से हटाना चाहते है| आप के विधायक अमानतउल्लाह खान ने आरोप लगाया था कि अगर वे अपने षड्यंत्र में असफल रहे| तो विश्वास ने भाजपा में शामिल होने की योजना बनाई है| जिसमें उनके साथ कई आम आदमी पार्टी विधायकों भी बीजेपी को ज्वाइन कर सकते है। केजरीवाल ने विश्वास को सुलझाने का प्रयास करते हुए खान को अपने आरोपों के साथ सार्वजनिक होने के लिए एक प्रमुख पार्टी पद से अलग कर दिया था।