भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान तेज बहादुर यादव के द्वारा खराब खाने को लेकर बनाये गए वीडियो का मामला अब भारत-पाक सीमा तक पहुंच गया है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भारतीय सीमा के निकट तैनात पाकिस्तानी सैनिक भारतीय सैनिकों को खराब खाने का ताना मार रहे हैं. तेज बहादुर के वीडियो के बाद विभिन्न अर्ध सैनिक बलों और सैनिकों ने सोशल मीडिया पर अलग-अलग तरह की शिकायतें सामने रखी थीं. टाइम्स ऑफ इंडिया को गुजरात सीमा पर तैनात एक बीएसएफ अधिकारी ने बताया कि जिन जगहों पर भारत और पाकिस्तान की चौकियां आमने-सामने हैं, जैसे गुजरात के बाड़मेर सेक्टर में वहां पाकिस्तानी रेंजर भारतीय जवानों को ताना मारते हुए कहते हैं कि, “अगर तुम लोग भूखे हो तो इधर आ जाओ. हमारे पास खाना है.” बीएसएफ के ही एक अन्य जवान नवरत्न चौधरी ने सोशल मीडिया पर भ्रष्टाचार की शिकायत की थी. बीएसएफ ने इन शिकायतों के बाद जांच के आदेश दे दिए हैं.

बीएसएफ के एक अधिकारी ने मीडिया को बताया कि भारतीय जवानों द्वारा सोशल मीडिया पर ऐसी शिकायतें डालने से अर्ध सैनिकों बलों और सेना की छवि खराब हो रही है. बीएसएफ अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई और सीमापार स्थित आतंकी संगठन सोशल मीडीया पर शेयर की गयी ऐसी पोस्ट का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं.

तेज बहादुर यादव के वीडियो के मीडिया में आने के बाद भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत ने सैनिकों को अपनी शिकायत सोशल मीडिया पर साझा न करने की हिदायत दी थी. सेना प्रमुख ने इसे अनुशासनहीनता बताते हुए कहा कि जवानों को उचित माध्यम से अपनी शिकायत सामने रखनी चाहिए. बाद में सैनिकों की शिकायतों के लिए एक विशेष व्हाट्सऐप ग्रुप भी बनाया गया. जिसमें वो अपनी शिकायत साझा कर सकते हैं. यादव उस समय जम्मू-कश्मीर में तैनात थे और उन्होंने अपनी वीडियो पोस्ट में पनीली दाल और अधपकी रोटियों दिखाते हुए कहा था कि कभी-कभी उन्हें भूखा भी रहना पड़ता है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बीएसएफ ने इन घटनाओं के बाद सीमा पर तैनात जवानों के स्मार्टफोन रखने पर रोक लगा दी है.

हिंदी वार्ता से जुडें फेसबुक पर-अभी लाइक करें

 
Mritunjay
राष्ट्रीय राजनीति में विशेष रुझान रखते हैं. कभी कभार अन्य मुद्दों पर भी अपनी राय बेबाक तरीके से रखते हैं ! विशेष जानने के लिए इनसे फेसबुक के माध्यम से जुड़ सकते हैं! हिन्दीवार्ता पर इनके रोचक लेखों को पढ़िए और दिल खोल कर शेयर कीजिये.