परम पुनीत भरत-आचरनूमधुर मंजु मुद मंगल करनू में कौनसा अलंकार है?

परम पुनीत भरत-आचरनूमधुर मंजु मुद मंगल करनू में कौनसा अलंकार है?

प्रश्न – परम पुनीत भरत-आचरनूमधुर मंजु मुद मंगल करनू में कौनसा अलंकार है? उदाहरण सहित स्पष्ट कीजिये।

उत्तर – प्रस्तुत पंक्तियों में अनुप्रास अलंकार है क्योंकि इसमें प वर्ण की आवृत्ति हो रही है। वर्णों की आवृत्ति से कविता में चमत्कार उत्पन्न हो रहा है।

इस पंक्ति में अनुप्रास अलंकार का कौन सा भेद हैं?

जब काव्य पंक्ति में एक वर्ण की आवृत्ति होती है तब वृत्यानुप्रास का प्रयोग होता है। इस पंक्ति में प वर्ण की आवृति हो रही है इसलिए इसमें वृत्यानुप्रास है।

जैसा कि आपने इस उदाहरण में देखा जहां पर किसी वर्ण के विशेष प्रयोग से पंक्ति में सुंदरता, लय तथा चमत्कार उत्पन्न हो जाता है उसे हम शब्दालंकार कहते हैं।

अनुप्रास अलंकार शब्दालंकार का एक प्रकार है। काव्य में जहां समान वर्णों की एक से अधिक बार आवृत्ति होती है वहां अनुप्रास अलंकार होता है।

परम पुनीत भरत-आचरनूमधुर मंजु मुद मंगल करनू में अलंकार से संबन्धित प्रश्न परीक्षा में कई प्रकार से पूछे जाते हैं। जैसे कि – यहाँ पर कौन सा अलंकार है? दी गई पंक्तियों में कौन सा अलंकार है? दिया गया पद्यान्श कौन से अलंकार का उदाहरण है? पद्यांश की पंक्ति में कौन-कौन सा अलंकार है, आदि।

[display-posts category_id=”2993″  wrapper=”div”

wrapper_class=”my-grid-layout”  posts_per_page=”10″]

Leave a Reply