Advertisement

Pariksha khatam hone ke baad do mitraon ke beech samvad- Samvad Lekhan

अंशुल : विभु, परीक्षाएं तो ख़त्म हो गई हैं अब सप्ताह भर की छुट्टियों में क्या करने का विचार है ?

विभु : हाँ अंशुल, मैं भी यही सोच रहा था कि अब सात दिन की छुट्टियों का सदुपयोग कैसे किया जाये?

अंशुल : अगर तुम चाहो तो मेरे पास एक विचार है ।

विभु : हाँ-हाँ बताओ क्या विचार है ?

Advertisement

अंशुल : क्या तुम कभी किसी पहाड़ के गाँव में गए हो ?

विभु : नहीं, कभी नहीं ।

अंशुल : चलो तो मैं तुम्हे अपने गाँव की सैर करवा कर लाता हूँ ।

विभु : अरे वाह ! बड़ा मजा आयेगा।

अंशुल : हाँ, मेरा गाँव उत्तरकाशी में है और बहुत ही सुंदर है । शहर की चकाचौंध से दूर, पहाड़ों के बीच में।

विभु : मुझे तो सुनकर ही मजा आ गया । अभी तक ऐसे गाँव मैंने टेलीविजन में ही देखे थे । अब सामने से देखूंगा, यह सोचकर ही मैं रोमांचित हो रहा हूँ ।

Advertisement

अंशुल : तुम्हे पता है मेरे गाँव में सीड़ीनुमा खेत हैं जो बहुत ही सुंदर लगते हैं । मेरे गाँव में घराट भी है गाँव के लोग वहाँ अनाज पिसाते हैं और हाँ वहाँ अभी भी पहाड़ी खाना ही खाया जाता है अपने खेतों का उगा हुआ जिसे शहरों में लोग महंगे दामों में खरीदते हैं । अब तुम घर जाओ और जाने की तैयारी कर लो, कल सुबह की पहली बस से ही निकलना पड़ेगा तब कहीं जाकर देर शाम तक पहुंचेंगे क्योंकि बस से उतर कर थोडा पैदल भी चलना पड़ेगा ।

यह संवाद लेखन विद्यार्थियों के लिए निम्न विषयों पर उपयोगी होगा – Samvad Lekhan, samvad lekhan meaning, samvad lekhan in hindi for class 8, samvad lekhan meaning in english, samvad lekhan in hindi for class 7, samvad lekhan format class 9, samvad lekhan marathi, shunya kachra samvad lekhan, 5 samvad lekhan, samvad lekhan in hindi for class 6, samvad lekhan in hindi for class 5, samvad lekhan in hindi for class 10

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here