Advertisement

Pariksha mein pratham aane par pita ji ko patra  विषय पर विभिन्न कक्षाओं के छात्रों के लिए यहाँ पर पत्र लेखन के उदाहरण दिये गए हैं। पत्र लेखन के इन उदाहरणों के आधार पर आप विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में भी पत्र लेखन कर सकते हैं।

परीक्षा में प्रथम आने पर पिताजी को पत्र लिखिए । (11-12)

नवोदय विद्यालय,
दादरी
दिनांक : 15-3-2021

आदरणीय पिता जी,
सादर चरण स्पर्श

मैं यहां कुशल पूर्वक हूं और आपकी कुशलता की आशा करता हूं। जैसा कि आपको पता ही होगा कि पिछले महीने विद्यालय में वार्षिक परीक्षा समाप्त हुई। आपको यह जानकर अत्यंत प्रसन्नता होगी कि इस बार मेरा परीक्षा परिणाम अच्छा नहीं बहुत ही अच्छा रहा है क्योंकि मैंने इस बार कक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया है। यह पल मेरे लिए बहुत ही गौरव से भरा है।

Advertisement

आपको तो पता ही है कि जब मेरा गणित का पेपर था तब मेरी तबियत ठीक नहीं थी और मैं थोड़ा डरा हुआ था लेकिन परीक्षा परिणाम देखकर मुझे यह अनुभव हुआ कि परीक्षा के समय पढना नहीं बल्कि पूर्व में पढ़ा हुआ ही काम आता है। आपकी नसिहत और आशीर्वाद दोनों ने मिलकर मुझे यह सफलता हासिल करवाईं है। इसमें मेरी मेहनत के साथ ही आप दोनों का पूरा योगदान है।

मां यह खबर सुनकर बहुत खुश होगी। पिताजी, कक्षा में प्रथम आने के कारण मुझे 5000 की धनराशि भी प्राप्त हुईं है। मैं चाहता हूं कि इस से मैं आपलोगो के लिए एक उपहार लाऊं।

शेष कुशल है। मां को चरण स्पर्श कहिएगा।

आपका पुत्र
रमेश

परीक्षा में प्रथम आने पर पिताजी को पत्र। कक्षा (9-10)

बालक छात्रावास,
गुमला
दिनांक- 5-3-2021

पूज्य पिता जी
सादर चरण स्पर्श,

Advertisement

आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आप वहां कुशल पूर्वक होंगे। मैं भी यहां स्वस्थ और सानंद हूं। आपको मेरे परीक्षा परिणाम का इंतजार होगा और आपके आशा के अनुरूप मैन इस बार भी परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल किया है।

पिताजी, मैं आपको यह बताना चाहता हूं कि विद्यालय में हर साल कक्षा में प्रथम आने वाले विद्यार्थियों को विद्वता पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है।इस बार इसका आयोजन अगले सोमवार को किया जा रहा है। आपको और मम्मी का आना अत्यंत आवश्यक है। मैं उस खुशनुमे पल का बेसब्री से इंतजार कर रहा हूं जब प्रधानाचार्य महोदय मुझे आप दोनों के समक्ष पुरस्कृत करेंगे।

आपकी सिखाईं गई बातें मेरे कितने काम आई।यह सोचकर मैं गौरवान्वित महसूस करता हूं।
माताजी को भी यह खुशखबरी अवश्य सुनाईएगा वह बेहद प्रसन्न होंगी। उनकी मंशा पूर्ण हुई।
माताजी को मेरा प्रणाम कहिएगा ।आगे भी मुझे आप दोनों की आशीर्वाद की आवश्यकता पड़ती रहेगी। गोलू को मेरा प्यार बोलिएगा। मेरे प्रथम आने की खबर से वह भी बहुत खुश होगा।

शेष मिलने पर

आपका प्रिय पुत्र
रमेश

परीक्षा में प्रथम आने पर पिताजी को पत्र लिखिए। कक्षा (6, 7, 8)

गुलिस्तां छात्रावास
लखनऊ,
दिनांक: 5-2-2021

पूज्य पिताजी,
सादर चरण स्पर्श

मैं यहां कुशल से हूं और आपकी कुशलता की कामना करता हूं। जैसा कि आपको पता ही है कि पिछले महीने मेरी वार्षिक परीक्षा समाप्त हुई है और आपको उसके परिणाम का उत्सुकता पूर्वक इंतजार होगा। यह पत्र मैंने आपको यही बताने के लिए लिखा है कि मेरा परीक्षा परिणाम घोषित हो चुका है और सबसे खुशी की बात यह है कि इस बार मैं कक्षा में प्रथम आया हूं। यह सब आपके आशीर्वाद का ही परिणाम है। आपके दिशा-निर्देश में की गई मेरी मेहनत रंग लाई और मुझे यह मुकाम हासिल हुआ।

पिछली बार मैं तीन चार नंबर से पीछे रह गया था और मेरे अंदर निराशा छाई हुई थी फिर आपके समझाने पर मेरे अंदर प्रेरणा आई। और मैंने एक नये उद्देश्य से तैयारी शुरू की इसका परिणाम आज सामने है।

परीक्षा में मेरी इस सफलता से मेरे दोस्तों में उत्साह की लहर है। उन लोगो ने मेरे लिए एक पार्टी का आयोजन किया है। जिसमें मुझे धन की आवश्यकता है। अगर आप वो मुझे भेज दें तो अच्छा होगा। विद्यालय में भी एक पारितोषिक वितरण समारोह का आयोजन किया गया। है। इसमें अभिभावकों की उपस्थिति आवश्यक है। आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि आप माताजी के संग अवश्य पधारिएगा।
माताजी को मेरे प्रथम आने की सूचना अवश्य दीजियेगा। उन्हें मेरा प्रणाम कहिएगा। यह सफलता मैंने आप दोनों के आशीर्वाद और प्यार से ही प्राप्त की है। छोटे भाई बहनों को ढेर सारा प्यार।

आपका पुत्र
रोहित

Patra lekhan in Hindi Class 6
Patra lekhan in Hindi Class 7
Patra lekhan in Hindi Class 8
Patra lekhan in Hindi Class 9
Patra lekhan in Hindi Class 10
Patra lekhan in Hindi Class 11
Patra lekhan in Hindi Class 12

पत्र लेखन के विषय (patra lekhan topics in Hindi), पत्र लेखन प्रारूप Patra Lekhan Formats, औपचारिक पत्र Aupcharik Patra, अनौपचारिक पत्र  Anaupcharik Patra आदि के बारे में विस्तार से जानकारी के लिए यह पोस्ट पढ़ें:

पत्र लेखन PATRA LEKHAN | LETTER WRITING IN HINDI for FULL MARKS

औपचारिक एवं अनौपचारिक पत्र लेखन के 100 से अधिक उदाहरण 

आशा है कि परीक्षा में प्रथम आने पर पिताजी को पत्र विषय पर प्रस्तुत पत्र लेखन के उदाहरण आपके लिए उपयोगी सिद्ध होंगे। आप इन पत्रों में थोड़ी बहुत फेर-बदल कर मिलते जुलते विषयों पर पत्र लेखन के प्रश्न हल कर सकते हैं। इस पत्र लेखन से मिलते जुलते निम्न विषयों पर पत्र लेखन का अभ्यास आप कर सकते हैं जिनसे आपको परीक्षा में अच्छे अंक लाने में सहता मिलेगी जैसे – परीक्षा में प्रथम आने पर पत्र, कक्षा में प्रथम आने की सूचना देते हुए अपनी माँ को पत्र लिखिए, अपने विद्यालय में प्रथम आने पर अपनी माताजी को पत्र लिखिए, कक्षा में प्रथम आने पर पिताजी को अपने अंक बताते हुए एक पत्र लिखिए, पिताजी को पढ़ाई की जानकारी हेतु पत्र, आप परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त नहीं कर पाए कारण बताते हुए बड़े भाई को पत्र लिखिए, परीक्षा परिणाम आने पर अपने माता पिता को पत्र लिखिए, अपने पिताजी को पत्र लिखिए

कृपया अपने सुझाव हमें अवश्य भेजें।

Hindi Patra Lekhan Topics

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here