बेंगलुरू: पत्रकार गौरी लंकेश के लापता क़ातिलों का सुराग़ पुलिस को मिल गया और जल्द ही इन्हें हिरासत में ले लिया जाएगा.इस आशय की जानकारी कर्नाटक के गृह मंत्री रामलिंगा रेड्डी ने भी दी है. रेड्डी ने कहा कि वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश के हत्यारों को कुछ हफ्तों में निश्चित रूप से पकड़ लिया जाएगा.

रेड्डी ने कहा, ”गौरी के हत्यारों को सौ फीसद पकड़ लिया जाएगा. यह कुछ हफ्तों में होगा. हालांकि उन्होंने स्पष्ट किया कि इसका मतलब एक या दो हफ्ता नहीं है. यह कुछ हफ्तों में होगा.”

उल्लेखनीय है कि ‘कन्नड़ पत्रिका’ की संपादक गौरी लंकेश की उनके घर के बाहर कुछ लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. हत्यारों को गिरफ्तार करने के लिए देश भर में मीडियाकर्मियों ने धरने दिए थे.

रेड्डी ने कहा कि हत्या की जांच कर रही विशेष जांच टीम (एसआईटी) के पास हमलावरों के खिलाफ सबूत हैं लेकिन अभी उनका खुलासा नहीं किया जा सकता. रेड्डी प्रेस क्लब ऑफ बेंगलुरू और बेंगलुरू रिपोर्टर गिल्ड के आयोजन में बोल रहे थे.

उन्होंने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा ‘यह किसने किया…एसआईटी द्वारा मुहैया की गई जानकारी को लेकर मैं इस बात से वाकिफ हूं. लेकिन अभी इसका खुलासा नहीं कर सकता.’

हालाँकि मंत्री ने मामले में कुछ सुराग जुटाने के बारे में नौ सितंबर को भी इसी तरह का दावा किया था. फिर दो अक्‍टूबर को भी गृह मंत्री रेड्डी ने दावा किया था कि वरिष्ठ कन्नड़ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या की जांच कर रही एसआईटी को कुछ सुराग मिले हैं और वह साक्ष्य जुटाने में जुटी हुई है.

उन्होंने कहा कि जब उपयुक्त साक्ष्य नहीं रहेगा तो हम अदालत में आरोपपत्र दाखिल कर भी दें तो यह नहीं टिक पाएगा. इसलिए हम ठोस साक्ष्य जुटाने की कोशिश कर रहे हैं.

कर्नाटक सरकार ने आईजीपी (खुफिया) बीके सिंह के नेतृत्व में एक एसआईटी गठित की थी. राज्य सरकार ने गौरी की हत्या से जुड़ा सुराग देने वाले व्यक्ति को 10 लाख रूपये का इनाम देने की घोषणा की थी.