Pradushan ki Samasya par Nibandh – Hindi Essay

प्रदूषण की समस्या और समाधान पर लघु निबंध

आज मनुष्य ने इतना विकास कर लिया है कि वह अब मनुष्य से बढ़कर देवताओं की शक्तियों के समान शक्तिशाली हो गया। मनुष्य ने यह विकास और महत्व विज्ञान के द्वारा प्राप्त किया है।

विज्ञान का आविष्कार करके मनुष्य ने चारों ओर से प्रकृति परास्त को करने का कदम बढ़ा लिया है। देखते देखते प्रकृति धीरे धीरे मनुष्य की दासी बनती जा रही है। आज प्रकृति मनुष्य के अधीन बन गई है।

इस प्रकार से हम कह सकते हैं कि मनुष्य ने प्रकृति को अपने अनुकूल बनाने के लिए कोई कसर न छोड़ने का निश्चय कर लिया है।

जिस प्रकार मनुष्य मनुष्य का और राष्ट्र राष्ट्र का शोषण करते रहे हैं, उसी प्रकार मनुष्य प्रकृति का भी शोषण करता रहा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि प्रकृति में कोई गंदगी नहीं है।

प्रकृति में सब जीव-जन्तु, प्राणी तथा वनस्पति जगत परस्पर मिलकर संतुलन बनाए रहते हैं। प्रत्येक का अपना विशिष्ट कार्य है। प्रकृति में ब्रहमा, विष्णु और महेश का काम अपने स्वाभाविक रूप से बराबर चलता रहता है। जब तक मनुष्य का हस्तक्षेप नहीं होता, तब तक न गंदगी होती है और न रोग ही।

जब मनुष्य प्रकृति के कार्य में हस्तक्षेप करता है, तब प्रकृति का समतोल बिगड़ता है। इससे सारी सृष्टि का स्वास्थ्य बिगड़ा जाता है।

आज का युग वैज्ञानिक और औद्योगिक युग है। औद्योगीकरण के फलस्वरूप वायु प्रदूषण बहुत तेजी से बढ़ रहा है। ऊर्जा तथा उष्णता पैदा करने वाले संयंत्रों से गरमी निकलती है। यह उद्योग जितने बड़े होगें और जितना बढ़ेंगे, उतनी ज्यादा गरमी फैलाएंगे।

इसके अतिरिक्त ऊर्जा उत्पन्न करने के लिए जो ईंधन प्रयोग में लाया जाता है, यह प्राय पूरी तरह नहीं जल पाता। इसका दुष्परिणाम यह होता है कि धुएँ में कार्बन मोनोक्साइड काफी मात्रा में निकलती है। आज मोटर वाहनों का यातायात तेजी से बढ़ रहा है। 960 किलोमीटर की यात्रा में एक मोटर वाहन उतनी आक्सीजन का उपयोग करता है, जितनी एक आदमी को एक वर्ष में चाहिए।

दुनिया के हर अंचल में मोटर वाहनों का प्रदूषण फैलता जा रहा है। रेल का यातायात भी आशातीत रूप से बढ़ रहा है। हवाई जहाजों का चलन भी सभी देशों में हो चुका है। तेल-शोधन, चीनी मिट्टी की मिलें, चमड़ा, कागज, रबर आदि के कारखाने तेजी से बढ़ रहे हैं। रंग बार्निष, प्लास्टिक, कुम्हारी चीनी के कारखाने बढ़ते जा रहे हैं।

हर प्रकार के यंत्र बनाने के कारखाने बढ़ रहे हैं। ये सब ऊर्जा उत्पादन के लिए किसी न किसी रूप में ईंधन को फूँकते हैं। ये अपने धुएँ से सारे वातावरण को दूषित करते हैं। यह प्रदूषण जहाँ पैदा होता है, वहीं पर स्थिर नहीं रहता। वायु के प्रवाह में वह सारी दुनिया में फैलता रहता है।

सन् 1968 में ब्रिटेन में लाल धूल, गिरने लगी, वह सहारा रेगिस्तान से उड़कर आई। जब उत्तरी अफ्रीका में टैंकों का युद्ध चल रहा था। तब वहाँ से धूल उड़कर कैरीबियन समुन्द्र तक पहुँच गई थी।

आजकल लोग घरों, कारखानों, मोटरों और विमानों के माध्यम से हवा, मिट्टी और पानी में अंधाधुंध दूषित पदार्थ प्रवाहित कर रहे हैं। विकास के क्रम में प्रकृति अपने लिए ऐसी परिस्थितियाँ बनाती हैं जो उसके लिए आवश्यक है। इसलिए इन व्यवस्थाओं में मनुष्य का हस्तक्षेप सब प्राणियों के लिए घातक होता है।

प्रदूषण का मुख्य खतरा इसी से है कि इससे परिस्थिति संस्थान पर दबाव पड़ता है। धनी आबादी वाले क्षेत्रों मे कार्बन मोनोक्साइड की वजह से रक्त संचार में 5-10 प्रतिशत आक्सीजन कम हो जाती है। शरीर के ऊतकों को 25 प्रतिशत आक्सीजन की आवश्यकता होती है।

आक्सीजन की तुलना में कार्बन मोनोक्साइड लाल रूधिर कोशिकाओं के साथ ज्यादा मिल जाती है। इससे यह हानि होती है कि ये कोशिकाएँ आक्सीजन को अपनी पूरी मात्रा में संभालने में असमर्थ रहती है।

लंदन में चार घंटों तक यातायात संभालने के काम पर रहने वाले पुलिस कर्मी के फेफड़ों में इतना विष भर जाता है मानो उसने 105 सिगरेटें पी ली हों।

आराम की स्थिति में मनुष्य को दस मीटर हवा की आवश्यकता होती है। कड़ी मेहनत पर उससे दस गुना ज्यादा चाहिए न एक दिन में एक दिमाग को इतनी आक्सीजन की आवश्यकता होती है जितनी कि यह 17,000 हेक्टेयर वन में पैदा होती है।

मिट्टी में बढ़ते हुए विष से वनस्पति की निरंतर कमी और महासागरों के प्रदूषण आदि की वजह से आक्सीजन की उत्पति में कमी होती जा रही है। इसके अतिरिक्त प्रतिवर्ष हम वायुमण्डल से अस्सी अरब टन धुआं फेंकते हैं। कारों तथा विमानों से दूषित गैस निकलती है।

मनुष्य और प्राणियों के साँस से जो कार्बन डाइआक्साइड निकलती है, वह प्रदूषण फैलाती है। कुछ वैज्ञानिकों की मान्यता है कि वातावरण के प्रदूषण वर्तमान रफतार से तीस वर्ष में जीवन मंडल जिस पर प्राणी और वनस्पति निर्भर है, समाप्त हो जाएंगे।

पशु, पौधे और मनुष्यों का अस्तित्व नहीं रहेगा। सारी पृथ्वी की जलवायु बदल जाएगी। संभव है बर्फ तक पृथ्वी का वातावरण, नदियाँ और महासमुन्द्र सब विषैले हो जाएंगे।

यदि मनुष्य प्रकृति के नियमों को समझकर, प्रकृति को गुरू मानकर उसके साथ सहयोग करता है और विशेष करके सब अवशिष्टों की प्रकृति को लौटाता है तो सृष्टि और मनुष्य स्वस्थ्य रह सकते हैं नहीं तो लंबे अर्से में अणु विस्फोट के खतरे की अपेक्षा प्रकृति के कार्य में मनुष्य का कृत्रिम हस्तक्षेप कम खतरनाक नहीं है।

अतएव हमें प्रकृति के शोषण को कम करना होगा, अन्यथा हमारा जीवन पानी के बुलबुले के समान बेवजह समाप्त हो जायेगा। हमारे सारे विकास कार्य ज्यों के त्यों पड़े रह जायेंगे।

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध (1000 words) Environment Pollution Essay in Hindi

पर्यावरण प्रदूषण प्रकृति का अभिशाप है जो मानव के कारण होता है। इंसान ने प्रकृति में असंतुलन पैदा किया है जिससे प्रदूषण के रूप में प्रकृति का प्रकोप दिखाई दे रहा है। आज के समय मे मनुष्य को ना शुद्ध खाना मिल रहा है और ना ही शुद्ध पानी और हवा मिल रही है। यहां तक कि रहने के लिए शांत वातावरण भी नही मिल रहा है। पानी, हवा में प्रदूषकों के मिलने से प्रकृति के यह तत्व प्रदूषित हो जाते है।

प्रदूषण के प्रकार Types Of Pollution In Hindi –

1. वायु प्रदूषण (Air Pollution) – हवा में प्रदूषकों के मिलने से हवा प्रदूषित हो जाती है। यह हवा मनुष्य के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव डालती है। कारखानों से निकला जहरीला धुंआ वायु में मिल जाता है। यह वायु प्रदूषण का मुख्य कारण है। वाहनों से निकला धुंआ भी वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार है।

2. जल प्रदूषण (Water Pollution) – कारखानों से निकलने वाला अशुद्ध जल और रासायनिक पदार्थ नदियों और समुद्र के जल मिलकर उसे प्रदूषित कर देता है। इस प्रदूषित जल को पीने से कई प्रकार की गम्भीर बीमारिया हो जाती है।

3. ध्वनि प्रदूषण (Noise Pollution) – फैक्टरियों की मशीनरी से निकलने वाली आवाज ध्वनि प्रदूषण की जिम्मेदार है। वाहनों का अत्यधिक शौर भी ध्वनि प्रदूषण पैदा करता है। इससे इंसानो में बहरापन और तनाव पैदा होता है।

4. मृदा प्रदूषण (Soil Pollution) – मिट्टी में प्रदूषकों के मिलने से मृदा प्रदूषण होता है। आजकल खेती में फसल उत्पादन बढ़ाने के लिए कीटनाशकों का छिड़काव किया जाता है। इससे कीटनाशक मृदा की उवर्कता को खत्म कर देते है।

प्रदूषण के कारण Causes Of Pollution In Hindi –

Pollution के व्यापक और सर्वोधिक कारण मानव निर्मित है। इंसान आधुनिकता की हौड़ में प्रकृति का अत्यधिक दोहन कर रहा है। इससे प्राकृतिक संसाधनों में कमी हो रही है। जो संसाधन बचे हुए है वो भी प्रदूषण के मारे प्रदूषित हो रहे है।

प्रदूषण का मुख्य कारण कल कारखानों से निकलने वाला जहरीला धुंआ और रासायनिक पदार्थ है। यह धुंआ वायु में और रासायनिक पदार्थ पानी मे मिलने से दोनों प्रदूषित हो जाते है।

शहरों में बढ़ते वाहन भी प्रदूषण का एक कारण है। अत्यधिक वाहनों से ट्रैफिक बढ़ता है और उनसे निकलने वाले जहरीले धुयें में बढ़ौतरी होती है जिससे वायु प्रदूषण होता है। वाहनों के अत्यधिक शौर से ध्वनि प्रदूषण भी होता है। लाउडस्पीकर और कारखानों के सायरन से भी ध्वनि प्रदूषण बढ़ता है।

वृक्षों की अंधाधुंध कटाई से भी प्रदूषण में बढ़ौतरी हो रही है। घटते जंगलो से प्राकृतिक सन्तुलन बिगड़ा है। ध्वनि प्रदूषण और वायु प्रदूषण में अत्यधिक वृद्धि का एक कारण वृक्षों की कटाई भी है।

ज्वालामुखी, बाढ़, भूकम्प से भी वायु और जल प्रदूषण होता है। परमाणु विस्फोट परीक्षण से भी वायु प्रदूषण में बढ़ौतरी होती है। परमाणु परीक्षण से रेडियोएक्टिव प्रदार्थ हवा में मिल जाते है।

बढ़ती आबादी भी बढ़ते प्रदूषण का एक कारण है। ध्वनि प्रदूषण, जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण के बढ़ने का कारण बढ़ती आबादी भी है।

Pollution का व्यापक दुष्प्रभाव होता है। प्रदूषण से प्रकृति की हर चीज विकृत हो रही है।

वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण से प्राकृतिक अंसतुलन पैदा होता है। रेगिस्तान की भूमि में विस्तार और कम होती हरियाली प्रदूषण के प्रभाव है।

प्रदूषण से कई प्रकार की महामारियां पैदा होती हैं जो इंसानों और जानवरों को बीमार कर देती है। मनुष्यों का गिरता स्वास्थ्य का जिम्मेदार भी प्रदूषण है। वायु प्रदूषण से सांस सबंधी बीमारिया फैलती है। ध्वनि प्रदूषण से बहरापन और तनाव बढ़ता है।

जल प्रदूषण से नदियों और समुद्रों का पानी प्रदूषित हो जाता है। इससे जलीय जीव प्रभावित होते है। कई जलीय जीवों की प्रजाति इससे नष्ट हो चुकी है। इस दूषित पानी से नहाने से चर्म रोग होने की संभावना होती है। प्रदूषित पानी पीना भी कई बीमारियों को न्योता देता है।

उपजाऊ भूमि में प्रदूषकों के मिलने से वह भूमि बंजर होती जाती है। मिट्टी में कीटनाशकों के छिड़काव से भी मृदा प्रदूषण होता है।

प्रदूषण के कारण धरती का तापमान लगातार बढ़ रहा है। ओजोन परत में हुए छेद का कारण भी वायु प्रदूषण है। ग्लेशियर के पिघलने से जल स्तर में बढ़ौतरी हुई है।

प्रदूषण रोकने के उपाय How To Control Pollution In Hindi –

Pollution को समाप्त करना तो मुश्किल है लेकिन इसे कुछ उपाय करके कम किया जा सकता है।

प्रदूषण रोकने के उपाय से प्रदूषण को काफी हद तक कम किया जा सकता है। प्रदूषण को रोकने के लिए सभी देशों को एकसाथ आना होगा। प्रदूषण रोकने के लिए कड़े नियम बनाने होंगे।

ग्लोबल वार्मिंग भी एक समस्या है जो बढ़ते प्रदूषण से और भी गम्भीर हो रही है। इससे निपटने के लिए वायु प्रदूषण को रोकना जरूरी है।

सामाजिक जागरूकता भी एक अच्छा उपाय हो सकता है। पर्यावरण प्रदूषण के गम्भीर खतरों से लोगो को अवगत कराना चाहिए। यह हमारी जिम्मेदारी और फर्ज है कि हम पर्यावरण की सुरक्षा करें।

शिक्षा से भी प्रदूषण की समस्या से निजात पाया जा सकता है। बच्चो को स्कूली सिलेबस में पर्यावरण के प्रति जागरूक करना चाहिए। प्रकृति का महत्व बच्चो की शिक्षा में अनिवार्य होना चाहिए।

फैक्टरियों से निकलने वाले धुंए और रासायनिक पदार्थ को वायु और जल में मिलने से रोकने के उपाय होने चाहिए। प्रदूषण का मानक तय होना चाहिए।

ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करना चाहिए जिससे प्रदूषण की समस्या से निजात मिल सकती है। पेड़ लगाना पूण्य कमाने के समान है।

हम स्वयं पर्यावरण को गंदा करते है और अस्वछता फैलाते है। यह हमारा दायित्व है कि हम स्वछता रखे। स्वच्छता बेहतर जीवन देती है। हर जगह कूड़ा कचरा डाल दिया जाता है। यह कूड़ा पानी मे मिलकर उसे प्रदूषित करता है। कचरे के प्रदूषक हवा में मिलकर इसे प्रदूषित करते है।

पृथ्वी की सुंदरता को बनाये रखने की जिम्मदारी हमारी है। धरती को प्रदूषण मुक्त करना हमारा कर्तव्य है। प्रकृति का संतुलन बनाये रखने का दायित्व भी हमारा है। प्रदूषण फैलाने के जिम्मेदार हम खुद है और इसको कम करना भी हमारे ऊपर ही है। प्रदूषण पर निबंध में प्रदूषण के कारण, प्रभाव और प्रदूषण रोकने के उपाय के बारे जानकारी देना हमारा दायित्व है।

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध (200 Words) Hindi Essay on Environmental Pollution

हमारे चारों ओर जो भी भौतिक, जैविक और सांस्कृतिक वातावरण है वही पर्यावरण है। जीवन की शुरुआत से लेकर अंत तक हमारा पर्यावरण (Environment)के साथ निरंतर संपर्क, संघर्ष और सामंजस्य रहता है ।

पर्यावरण विकास और संरक्षण:

विकास के नाम पर मनुष्य ने प्रकृति का जिस-जिस रूप में दोहन किया या उपभोग किया और जिस तरह वस्तुओं को उच्छिष्ट मानकर आसपास के परिवेश में फेंका है, उससे व्यक्ति का पर्यावरण के साथ इतना संतुलन बिगड़ गया है और निरंतर रूप से बिगड़ता जा रहा है कि वह विनाश के मुंँह की ओर जाता जा रहा है। इसलिए पर्यावरण का प्रदूषण आज सभी व्यक्तियों और देशों की जनता के लिए विकास से भी अधिक महत्त्व का विषय है।

प्रदूषण का तीव्रगामी प्रसार:

मनुष्य के प्रारंभिक विकास में मनुष्य और प्रकृति का निकट का संबंध था। प्रकृति का मनुष्य पर दबाव भी कम था परंतु धीरे-धीरे मनुष्य के संख्यात्मक प्रसार ने तथा उसके उपयोग की बढ़ती हुई लालसा ने प्रकृति का दोहन ऐसे शुरू किया कि पर्यावरण की समस्या उत्पन्न हो गई। औद्योगक क्रांति ने तो पर्यावरण का स्वरूप ही बदल कर रख दिया। उद्योगों की चमनियों से निकलता हुआ धुआं और रासायनिक कारखानों से बहता हुआ विषैला पदार्थ प्रकृति में कार्बन कण, कार्बन डाई-ऑक्साइड, कार्बन डाई-सल्फाइड आदि विषाक्त गैसें बढ़ाने लगा, इससे वायु और जल दूषित होने लगे। उद्योगों में ईंधन के रूप में पेट्रोल और कोयला जलाए जाने से हवा में ज़हरीलापन बढ़ने लगा ।
विकसित देशों ने अपने औद्योगिक विकास के ज़रिये स्वयं अपने देशों में, एवं विकासशील देशों में भी, कारखाने लगाकर प्रदूषण को बढ़ाने में तेजी से वृद्धि की । एक और प्रकृति के ऊर्जा के भंडारों का शोषण होने लगा, दूसरी ओर प्रदूषण बढ़ने लगा । विभिन्न प्रकार की रासायनिक गैसों, विषैले कीटाणुओं और जैविक विषाणुओं से विभिन्न तरह की किरणें एवं विकिरण सब-कुछ: मनुष्य के अस्तित्व, स्वास्थ्य एवं उन्नति के विरुद्ध आ खड़े हुए।
एक अनुमान के अनुसार प्रदूषण के विभिन्न स्रोतों द्वारा विश्व के वायुमंडल में प्रतिवर्ष लगभग 20 करोड़ टन कार्बन मोनो-ऑक्साइड, 5 करोड़ टन सल्फर डाई-ऑक्साइड, 5 करोड़ टन अन्य कार्बन गैसें समा रही हैं। इसके अलावा मनुष्य कई-कई टन सिलिकॉन, आर्सेनिक, निकिल, कोबाल्ट, जस्ता और एण्टीमनी छोड़ता रहता है जो जीव-जन्तुओं के लिए विष के समान घातक है।
प्रति वर्ष हमारी पृथ्वी की हरियाली धीरे-धीरे कम होती जा रही है तथा तापमान में वृद्धि होती जा रही है। वायुमंडल में कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा 4 प्रतिशत की दर से प्रति वर्ष बढ़ती जा रही है। इस प्रकार न केवल सारा मनुष्य समाज बल्कि सारी जैविक सृष्टि अपने अस्तित्व के ख़तरे का सामना कर रही है ।

प्रदूषण के कारण:

पर्यावरण प्रदूषण (Environment Pollution) के कारणों में प्रमुख हैं-निरंतर बढ़ते हुए कल-कारखानों, वाहनों द्वारा छोड़ा जानेवाला धुआं, नदियों, तालाबों में गिरता हुआ कूड़ा-करकट, वनों की कटाई, रासायनिक खादों का बढ़ता प्रयोग, बाढ़ का प्रकोप, मिट्टी का कटाव एवं निरन्तर बढ़ती हुई जनसंख्या। अभी तक पर्यावरण प्रदूषण की समस्या बहुत-कुछ नगरों तक सीमित थी, परंतु अब गाँव भी इसकी चपेट में आते जा रहे हैं।

जल-प्रदूषण: पृथ्वी का तीन-चौथाई भाग पानी से ढका किंतु उसमें केवल 3 प्रतिशत जल पीने योग्य है। समुद्र के अलावा पृथ्वी तल का अन्य पानी भी पीने योग्य नहीं रहा है। भारत की अधिकतर नदियों का पानी न केवल पीने योग्य है बल्कि नहाने और पशुओं पीने योग्य भी नहीं है। केवल उसमें से 30 प्रतिशत पानी ही साफ करके पीया जा सकता है। जल-प्रदूषण के कारण पेचिश, खुजली, पीलिया, हैज़ा आदि बीमारियाँ बढ़ रही हैं। पिछले वर्षों में सूरत एवं दिल्ली फैले प्लेग में हुई व्यापक मानव-मृत्यु ने जल प्रदूषण की समस्या का विकराल रूप हमारे सामने रखा है।

वायु प्रदूषण: वायु प्रदूषण (Pollution) के मुख्य कारण हैं-उद्योगों का कूड़ा-करकट, कार्बन, मोटर आदि वाहनों द्वारा छोड़ी जानेवाली जहरीली गैसों रेडियोधर्मी पदार्थ आदि। एक वैज्ञानिक रिपोर्ट के अनुसार हमारे वायुमंडल में विषाक्त रासायनिक पदार्थ इतने तीव्र गति से छोड़े जा रहे हैं कि इन सबके प्रभावों का आकलन करना कठिन हो रहा है। इराक़ पर हुई बम वर्षा और वहाँ के तेल कुओं में लगी आग से कितने टन विषाक्त पदार्थ वायुमंडल में फैले इसका अनुमान लगाना असंभव है। इतना ही जान लेना पर्याप्त है कि वहाँ पर दो-तीन बार काले पानी की वर्षा हुई ।

वायु-प्रदूषण द्वारा होनेवाली मौतों का इतिहास अत्यंत दुखद है। सन् 1952 में लंदन में काला कोहरा (Black FOG) पड़ा था जिसमें मौजूद सल्फर डाई-ऑक्साइड गैस ने लगभग 4 हज़ार लोगों के प्राण ले लिए थे। इसी कड़ी में भोपाल के यूनियन कार्बाइड कंपनी गैस कांड में ‘मिक’ गैस के रिसने से लगभग 2500 व्यक्तियों के मुंह में वह ज़हरीली गैस चली गई जिससे उनकी मृत्यु हो गई, इसके अलावा उसके दुष्प्रभाव को अभी भी हज़ारों लोग भोग रहे हैं।

जीव-जंतुओं के अलावा पेड़-पौधे और भवन तक वायु-प्रदूषण द्वारा प्रभावित हो रहे हैं। आगरा के ताजमहल को वायु-प्रदूषण से बचाने की दृष्टि से उद्योगों को अनेक प्रकार के प्रतिबंध लगाने पड़े हैं । वायु प्रदूषण का ही एक रूप कार्बनिक गैसों का अत्यधिक उत्सर्जन है जिससे औज़ोन पर्त में छिद्र हो गया है तथा पराबैंगनी किरणों का दुष्प्रभाव धरती भोग रही है। इसी तरह इन ताप-अवशोषक गैसों में निरंतर हो रही वृद्धि से धरती का ताप बढ़ रहा है तथा धरती की वनस्पति एक नए संकट को झेल रही है।

ध्वनि-प्रदूषण: मशीनों की आवाज़ तथा लाउडस्पीकर आदि के कारण ध्वनि-प्रदूषण की समस्या भयंकर होती जा रही है । ध्वनि-प्रदूषण से मानव को अनेक मानसिक और मनोवैज्ञानिक विकारों का सामना करना पड़ता है । शादी, उत्सवों, त्योहारों आदि अवसरों पर होनेवाला ध्वनि-प्रदूषण अनेक व्यक्तियों की नींद हराम करता रहता है।

रसायनों एवं कीटनाशकों द्वारा प्रदूषण: विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अधिकांश कीटनाशकों को विषैला घोषित कर दिया है। इसके बावजूद भारत में कीटनाशक दवाईयाँ एवं कृत्रिम उर्वरकों का प्रयोग तेजी से बढ़ता जा रहा है। 1971 से 1995 के बीच के दशक में हरित क्रांति की बड़ी भूमिका रही है किंतु इस अवधि में यूरिया, फासफोरस और पोटाश उर्वरकों के प्रयोग में लगभग छह गुना वृधि हुई है जिसकी किसानों को बड़ी लागत चुकानी पड़ रही है । कीटनाशकों का छिड़काव करनेवाले व्यक्तियों को रतौंधी, लकवा, मस्तिष्क-ज्वर एवं आँख पर दुष्प्रभाव आदि अनेक रोग तो होते ही हैं साथ ही फल, सब्जी आदि भी प्रभावित होते हैं जिसका बुरा असर उनका उपयोग करनेवालों पर होता है।

भारत में लगभग 10,000 कारख़ाने रासायनिक कार्य से जुड़े हुए हैं, इनमें काम करनेवाले श्रमिकों को तरह-तरह के रोग होते हैं और अनेक मृत्यु को प्राप्त होते हैं। टाटा एनर्जी रिसर्च इंस्टीट्यूट (टेरी) के एक अध्ययन के अनुसार पर्यावरण प्रदूषण और प्राकृतिक संसाधनों के विनाश से सकल घरेलू उत्पाद (जी.डी.पी.) का 10 प्रतिशत से अधिक नुकसान हो रहा है।
सब्जियों और यहाँ तक कि दूध में भी रासायनिक प्रदूषण चिंताजनक स्तर पर पहुँच रहा है। इसी तरह रसायनों एवं कीटनाशकों से सैंकड़ों जैव प्रजातियों का लोप होता जा रहा है जबकि जैव विविधता पर्यावरण की अंत: क्रियाओं के खतरों के प्रति बीमा की तरह भी कार्य करती है।

वृक्षों की कटाई द्वारा प्रदूषण: वृक्ष कार्बन डाइ-ऑक्साइड को शुद्ध करके ऑक्सीजन प्रदान करते हैं किंत वृक्षों की कटाई के द्वारा जिस तरह से जंगल-दर-जंगल सफ़ाई होती जा रही है उससे पर्यावरण में कॉर्बन-डाई-ऑक्साइड को कम करने की प्राकृतिक क्रिया ही धीमी होती जा रही है।

औद्योगिक विकास के कारण पर्यावरण का जो प्रदूषण बढ़ता जा रहा है उसको हम गरीबी और अशिक्षा के कारण न तो भली प्रकार समझ पा रहे हैं और न उसका निवारण करने में अपने-आपको सक्षम ही पा रहे हैं। इसलिए इस घने होते जा रहे प्रदूषणों की ओर निरंतर बढ़ते जाना हमारे लिए चिंता का विषय है।

निरंतर बढ़ती हुई जनसंख्या के लिए गाँवों, कस्बों विशेषकर बड़े शहरों में सुख-सुविधाओं जुटाने के लिए अनेक विकास-कार्य किए जा रहे हैं किंतु वे अत्यंत अपर्याप्त । सुर्नियोजन ढंग से बस्ती बसाने के लिए, स्वच्छ जल एवं भोजन जुटाने के लिए पर्याप्त कार्य नहीं किया जा रहा है। बस्तियों में जिस प्रकार का प्रदूषण है उसको अधिक वित्तीय साधन जुटाकर, लोगों में पर्यावरण के प्रति चेतना पैदा करके एक अभियान के तहत कार्य करने की, उसे तत्काल हटाने की आवश्यकता है । हमको नदियों में कूड़ा एवं मलबा बहाना बंद करना चाहिए। पानी का दुरुपयोग बंद करके उसके संरक्षण के उपायों पर अमल करना चाहिए । बस्तियों के कचरे को बहुत दूर ढककर डालना चाहिए।

विकास और पर्यावरण – एक आधारभूत बहस: पर्यावरण (Environment) के साथ अंधाधुंध छेड़खानी विकास के नाम पर हुई है।ग़रीबी उन्मूलन के नाम पर धरती के संसाधनों का बेतहाशा दोहन किया गया, फलस्वरूप एक ओर धरती के अपने परिवेश में असंतुलन आया दूसरी ओर उस कच्चे माल से कारखानों में जिस तकनीक से उत्पादन किया गया उसमें धातु, जल, गैस एवं अन्य रासायनिक द्रवों से प्रदूषण बढ़ा। इन दो तरह की प्रक्रियाओं से वस्तुओं का उत्पादन तो बढ़ा किंतु प्रदूषण ने स्थायी तौर पर मनुष्य को रुग्ण कर लिया। उस रुग्णता के रहते स्थायी विकास की संभावना कहाँ। वस्तुत: विकास तो वह है जिसमें समाज के सभी लोग स्थायी तौर पर स्वस्थ और सुखी रहें। वह उत्पादन विकासकारी नहीं है जो बहुत मात्रा में तो होता है किंतु हमारे पर्यावरण संतुलन को नष्ट कर देता है। उस उत्पादन से जो आर्थिक विषमता फैलती है उससे तो आर्थिक-सांस्कृतिक प्रदूषण और फैलता है।

हमें विकास की पश्चिम द्वारा दी गई परिभाषा छोड़नी चाहिए तथा भौतिक संसाधनों के दोहन एव उनके उत्पादन में कम प्रदूषण पैदा करनेवाली (पशु, सौर, पवन, समुद्री लहरें, भूमिगत ताप और नदी के बहाव से जल विद्युत) ऊर्जा-स्रोतों को काम में लेना चाहिए । बड़े और केंद्रीकृत उद्योगों के स्थान विकेंद्रीकृत लघु उद्योगों को अपनाना चाहिए जो आर्थिक विषमता में कमी तथा सर्वोदय तो करते ही हैं साथ ही प्रदूषण भी नहीं फैलाते । दरअसल सवाल विकास से पहले संरक्षण का है, विनाश से बचने का है, इसलिए प्रदूषण का प्रश्न विकास से अधिक आधारभूत है, यह संपूर्ण प्राणिजगत् और मानवता का सवाल है।

प्रदूषण नियंत्रण के उपाय: पर्यावरण प्रदूषण (Environment Pollution) को रोकने के लिए शहरों में परिवहन की नीति में इस तरह परिवर्तन करने की ज़रूरत है कि ज़हरीली गैसें फैलानेवाली परिवहन तकनीक का उपयोग कम करें एवं ऐसी तकनीक को बढ़ाएँ जो वायु-प्रदूषण को कम करती है । पेट्रोलियम पदार्थों से चलनेवाले साधनों एवं सौर ऊर्जा से चलने वाले वाहनों की दिशा में गंभीरता से काम करना चाहिए। विकास के नाम पर यदि ऐसी बस्तुएँ उत्पन्न हो रही हों जो ज़हरीली गैसों को बढ़ावा दे रही हों तो हमें ऐसे उपयोग पर भी नियंत्रण रखना है ।

वनों के संरक्षण करने एवं वृक्ष लगाने के कार्य को तेजी से एवं प्रभावी ढंग से करने की आवश्यकता है। वन हमारे रक्षक हैं। इनसे भू-क्षरण, भू-स्खलन तथा बाढ़ रुकती हैं। अत: हरियाली बढ़ाने के लिए इनके सुनियोजित विकास पर ज़ोर देने की आवश्यकता है। फैक्ट्रियों और प्रयोगशालाओं के आसपास वृक्ष रोपे जाने चाहिए ताकि वायु और ध्वनि-प्रदूषण कम हो। हमारी नदियों एवं बाँधों के पानी को स्वच्छ रखने के लिए भी जन-जागरण की आवश्यकता है।

रासायनिक खादों एवं कीटनाशकों का प्रयोग भी बहुत सावधानी से एवं सीमित मात्रा में करने की आवश्यकता है तथा जैविक कीटनाशकों के उपयोग के बारे में जागरूकता बढ़ाई जानी चाहिए। ‘मेवाड़ पानी चेतना समिति’ का पानी कार्य, मीनासर का ‘गोचर आंदोलन’, खेजड़ी गाँव (जोधपुर) में हर वर्ष लगनेवाला बिश्नोइयों का मेला, चमौली (उ.प्र.) का ‘चिपको आंदोलन’, नर्मदा और टिहरी जैसे बाँधों पर प्रतिबंध लगाने के आंदोलन का हमारे पर्यावरण को स्वच्छ एवं संतुलित बनाए रखने की प्रेरणा देने के उत्तम उदाहरण हैं। हमें इन आंदोलनों से सीख लेनी चाहिए। जोहांसबर्ग पृथ्वी सम्मेलन, क्योटो संधि कोपेनहेगन आदि इस दिशा में किए गए, उल्लेखनीय अंतरराष्ट्रीय प्रयास हैं।

पर्यावरण (Environment) के प्रति संवेदनशीलता का विकास:
पर्यावरण (Environment) स्वच्छता का अर्थ है इस धरती पर सभी जीवधारियों का अस्तित्व और स्वास्थ्य। इसलिए सभी व्यक्तियों, राष्ट्रों को पर्यावरण के प्रति सही समझ विकसित करने की आवश्यकता है। प्रत्येक व्यक्ति को पर्यावरण के प्रति जागरूक होना ही है। पर्यावरण हमारे जीवन की प्राथमिकता में सर्वाधिक महत्वपूर्ण है । विकसित देशों में ऊर्जा स्रोत के रूप में नाभिकीय ऊर्जा के प्रयोग पर नियंत्रण रखने का प्राथमिक सवाल है । ऊर्जा के गैर-पारम्परिक स्रोतों की खोज करके, विशेषकर ऐसे स्रोतों की खोज करके जो पर्यावरण प्रदूषण बहुत कम करते हैं, हम पर्यावरण को स्वच्छ रख सकते हैं।

आवश्यकता इस बात की है कि सब लोग प्रकृति के साथ सामंजस्य स्थापित करके निहित स्वार्थों की पूर्ति के लिए उसको क्षति पहुँचाना बंद करें । विकास, औद्योगीकरण तथा मानव स्वास्थ्य के बीच तालमेल बढ़ाएँ। औद्योगिक विकास के बारे में ढंग से सोचें । प्रकृति का दोहन बंद करें और समुचित दोहन के द्वारा प्रकृति और विकास का संतुलन बनाए रखें । भारत के आर्य ग्रंथों ने आज से हज़ारों वर्ष पूर्व कहा था प्रकृति हमारी माता है जो अपना सब- कुछ अपने बच्चों को अर्पण कर देती है ।’ अतःआवश्यकता है हम हमारी प्रकृति माँ को सुरक्षित रखने के लिए कुछ इस प्रकार का काम करें कि वह भी स्वच्छ रहे और हम भी स्वस्थ-स्वच्छंद रहें।